राहुल गांधी को आज कैसे याद आई कश्मीरी पंडितों की : हनुमान वर्मा

43 / 100
Font Size

भाजपा नेता ने कहा , राहुल गांधी अब कैसे बन गये कश्मीरी पंडित  ?

हिसार 11 सितंबर : ओबीसी आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संरक्षक व भाजपा नेता प्रजापति हनुमान वर्मा ने प्रेस में जारी बयान में कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर कटाक्ष करते हुए पूछा है कि आज कैसे राहुल गांधी को कश्मीरी पंडितों की याद आ गई ? उन्होंने कहा है कि आज एकाएक राहुल गांधी कश्मीरी पंडित कैसे बन गये । ये उनका कोनसा नया पैंतरा है । ये कैसा ढोंग कर रहे हैं राहुल गांधी कश्मीर में जाकर.

वर्मा ने कहा कि हम राहुल गांधी से पूछना चहाते है कि कश्मीरी पंडितों को कश्मीर से किसने निकाला । किसने धारा 370 लगाई । किस उद्देश्य से धारा 370 लगाई गई। ये सब कांग्रेस का किया धरा था।

वर्मा ने कहा कि शायद राहुल गांधी ये भूल गए कि उन्होंने अपनी पार्टी के घोषणा पत्र में लिखा था कि उनकी सरकार आने पर वो धारा 370 पर पुनर्विचार करेंगे । आज वो कश्मीरी पंडित बन गये, कमाल है । जब सरकार कश्मीरी पंडितों को पुनः कश्मीर में बसाना चाहती थी और धारा 370 हटाना चाहती थी तब तो आपने ओर आपकी पार्टी ने इस का विरोध किया । अब कैसे आप कश्मीरी पंडित बन गये ।

वर्मा ने कहा कि अजीब विडम्बना है ,जिन के पुरखों ने ये दुःख दिया उनके नाती आज कश्मीरी पंडित के दुःख को मिटाने की बात करते हैं ।
वर्मा ने कहा है राहुल जी जनता आप से ज़बाब मांगेगी. वो मांऐं जिनके लाल इस धारा 370 के भेंट चढ़ गये । उन शहीदो की मां बहनों को आप लोगों को जबाब देना होगा ‌। अब जनता आपके बहकावे में नहीं आने वाली। आप का चेहरा देश के सामने आ चुका है । अतः ये बेतुकी हरकतें करना बन्द करें । वाह राहुल जी मान गए आपके दिमाग को जो आपने कहा कि भाजपा की आर्थिक नीतियों के कारण तीनों देवियों ( दुर्गा , लक्ष्मी , सरस्वती ) की शक्ति कम हो गई । कभी देवी , देवताओं की शक्तियां भी कम होती है क्या । ऐसी बातें आपके जहन में कैसे उपजती है राम ही जाने ।

वर्मा ने कहा राहुल गांधी जी अगर हिम्मत है तो कहो कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भारत का अंग है  और सरकार इसे भारत में मिलाने का काम करें हम भारत सरकार के साथ है. दो ये बयान । नहीं तो ऐसे झूठे राग अलापने बन्द करें । आप की झूठी हमदर्दी की कोई जरूरत नहीं है कश्मीरी पंडितों को ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page