प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बिहार में चुनावी शंखनाद : लालू परिवार पर जोरदार हमला, कहा, बिहार में लालटेन का जमाना चला गया

Font Size

सुभाष चंद्र चौधरी/संपादक

भागलपुर/रोहतास : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बिहार विधानसभा चुनाव प्रचार का शंखनाद करते हुए भागलपुर और सासाराम में दो चुनावी रैलियों को संबोधित किया। उन्होंने परिवारवाद को बढ़ावा देने वाले लालू यादव परिवार पर जमकर हमला बोला। लालू राबड़ी राज के 15 वर्षों के कार्यकाल की तुलना नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार के कामकाज से करते हुए लोगों से वोट डालने की अपील की। राष्ट्रीय मुद्दे में धारा 370 हटाने, बॉर्डर पर सैनिक कार्रवाई करने और कृषि कानूनों में विपक्ष पर रोड़े अटकाने के आरोप लगाए। पीएम मोदी ने जंगलराज की याद दिलाते हुए बिहार को प्रगति के पथ पर अग्रसर करने के लिए नीतीश कुमार को दोबारा मुख्यमंत्री के रूप में स्थापित करने का आह्वान किया। अपने संबोधन के अंत में श्री मोदी ने भागलपुर के लोगो को त्योहार के मौसम में लोकल वस्तुएं, भागलपुरी सिल्क साड़ियां खरीदने पर बल दिया। पीएम के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कटाक्ष करते हुए कहा कि अब बिहार में लालटेन का जमाना चला गया। सरकारी नौकरियों को रिश्वत वसूलने का माध्यम बनाने वाले लोग केवल सत्ता सुख के आदि हैं। इन्हें बिहार की जनता के दुख से कोई लेनादेना नहीं है।

श्री मोदी ने कहा कि आज भारत आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रतिबद्ध है। बिहार आत्मनिर्भरता के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है। अगर बिहार में विरोध और अवरोध को जरा भी मौका मिला तो बिहार की गति और प्रगति दोनों धीमी पड़ जाएगी। इसलिए आपको मतदान केंद्र पर वोट डालने ज़रूर पहुंचना है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने एक और योजना शुरू की है जिसका लाभ बिहार के गांवों को बहुत ज्यादा होगा। इस योजना के तहत गांव की जमीन पर, गांव में बने घरों पर आपका कानूनी अधिकार सुनिश्चित किया जा रहा है।इस योजना का नाम है- स्वामित्व योजना।

महती चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि भागलपुर सहित बिहार के अनेक शहर और व्यापारिक केंद्र गंगाजी के किनारे बसे हुए हैं। आज हल्दिया और वाराणसी के बीच वॉटर-वे पर व्यापारिक जहाज़ तो चलने ही लगे हैं इसे अब और बड़े जहाजों के लिए भी तैयार किया जा रहा है। इससे भागलपुर को भी सस्ती और कम प्रदूषण वाली कनेक्टिविटी मिलेगी।

उनका कहना था कि बीते वर्षों में गंगा जी के ऊपर ही करीब डेढ़ दर्जन पुल या तो बन चुके हैं या बनाये जा रहे हैं। आज गंगा जी पर औसतन हर 25 किमी पर पुल बनाया जा रहा है।

हाल ही में कृषि क्षेत्र के लिए लागू कृषि कानूनों की चर्चा करते हुए पीएम ने कहा कि ये NDA की ही सरकार है जिसने किसानों को लागत का डेढ़ गुना MSP देने की सिफारिश लागू की थी। ये NDA की ही सरकार है जिसने सरकारी खरीद केंद्र बनाने और सरकारी खरीद, दोनों पर बहुत जोर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि एनडीए के विरोधी दल जब किसानों के लिए कुछ कर नहीं पाए तो अब किसानों को लगातार झूठ बोलने में जुट गए हैं।आजकल ये लोग MSP को लेकर अफवाहें फैला रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने तीखे अंदाज में किसी का नाम लिए बिना राजद गठबंधन के नेता तेजस्वी यादव पर सीधा हमला बोला। उन्होंने कहा कि 15 साल के लालू राज में शाम होते ही सबकुछ बंद हो जाता था। व्यापारी प्रदेश छोड़ कर जाने को मजबूर थे। बिहार में पहले जो सरकारें रही उन्होंने आदिवासियों के कल्याण के लिए उन्हें शोषण से मुक्ति दिलाने के लिए सिर्फ और सिर्फ झूठे वादे किए। अब NDA सरकार आदिवासी बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ, उनके लिए घर, उनके लिए रोजगार पर पूरा ध्यान दे रही है।

श्री मोदी ने अपने लंबे भाषण में बिहार की बदहाली के लिए पिछली कांग्रेस नीत यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि भागलपुर सहित बिहार के शहरों की जो हालत इन लोगों ने कर दी थी, वो आप अच्छी तरह जानते हैं। छोटे दुकानदार, व्यापारी कारोबारी, मज़दूर इनके जंगलराज में हर कोई परेशान था। इसी का नतीजा था कि भागलपुर, मुंगेर सहित यहां के तमाम जिलों में दूसरे उद्योगों के लिए भी जो अवसर थे, वो खत्म होते गए।

उनका कहना था कि जब-जब बिहार ने इन लोगों पर विश्वास किया है, इन लोगों ने बिहार के साथ, बिहार के गौरव के साथ विश्वासघात किया गया है। बिहार को लूटकर इन लोगों ने अपने परिवार की तिजोरियां भरी हैं, रिश्तेदारों को अमीर बनाया है।

बीते सालों में बिहार में 3,500 किमी के राष्ट्रीय राजमार्ग या तो बने हैं या उन्हें चौड़ा किया जा रहा है। क्रम में उन्होंने कहा कि भागलपुर से गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्ग के चौड़ीकरण के लिए भी अब स्वीकृति दी जा चुकी है।

बिहार में शिक्षा व्यबस्था में सुधार का दावा करने के क्रम में पीएम मोदी ने कहा कि बिहार अच्छी शिक्षा के अवसरों का भी हकदार है। लोगों से उनका सवाल था कि क्या वे लोग अच्छी शिक्षा व्यवस्था सुनिश्चित कर सकते हैं जिन्हें शिक्षा का महत्व ही नहीं पता। उनका कहना था कि एनडीए की सरकार ही कर सकती है जो IIT, IIM और AIIMS को राज्य में लाने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उठाये कई सवाल :

– बिहार बेहतर कानून व्यवस्था का हकदार है।

ये कौन सुनिश्चित करेगा?

वो जिन्होंने गुंडों को खिलाया-पिलाया पाला या वो जिन्होंने गुंडों पर डंडा चलाया।

– बिहार निवेश का हकदार है।

ये कौन सुनिश्चित कर सकता है?

जिन्होंने बिहार को जंगल-राज बना दिया या जो लोग बिहार को सुशासन दे रहे हैं, बिहार के विकास में जी जान से जुटे हैं।

– बिहार विकास का हकदार है।

विकास कौन सुनिश्चित करेगा?

वो जिन्होंने केवल अपने परिवार का विकास किया या वो जो लोगों की सेवा में अपना परिवार भी भूल गए।

– बिहार रोजगार और उद्यमों का हकदार है

बिहार वो स्थान है जहां लोकतंत्र के बीज बोए गए थे।

क्या जंगलराज में कभी भी विकास और लोकतांत्रिक मूल्य फल-फूल सकते हैं?

– बिहार भ्रष्टाचार मुक्त शासन का हकदार है।

इसे कौन सुनिश्चित करेगा?

खुद भ्रष्टाचार में लिप्त लोग या भ्रष्टाचारियों से लड़ने वाले लोग ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: