रेलवे ने अधिसूचित एक लाख नौकरियों में से 20% रिक्तियां प्रशिक्षुओं के लिए आरक्षित की

Font Size

नई दिल्ली। अप्रेंटिस अधिनियम, 2016 के अनुसार, स्तर-1 भर्तियों, जो वर्तमान में प्रकियाधीन हैं, के लिए अधिसूचित 1,03,769 रिक्तियों में रेलवे ने 20% रिक्तियों (अर्थात 20,734 रिक्तियां) को प्रशिक्षुओं के लिए आरक्षित किया है।

हाल ही में ऐसी समाचार रिपोर्ट आयी हैं कि रेलवे प्रतिष्ठानों में प्रशिक्षित प्रशिक्षु नियमित नियुक्ति की मांग कर रहे हैं।

प्रशिक्षु जीएम को मिले पूर्व अधिकारों की बहाली की मांग कर रहे हैं। इसे मार्च 2017 में समाप्त कर दिया गया था।

गौरतलब है कि बिना किसी खुली प्रतियोगिता के नियमित नियुक्ति, जैसा की कुछ लोगों द्वारा मांग की जा रही है, संवैधानिक प्रावधानों और नियमित भर्ती के लिए भारत सरकार के नियमों के विरुद्ध होगा। देश के सभी पात्र नागरिक नियमित नौकरियों के लिए प्रतिस्पर्धा करने और आवेदन करने के अधिकारी हैं। बिना किसी खुली प्रतियोगिता के सीधी भर्ती नियमों के विरुद्ध है।

इसके अतिरिक्त, 2016 में अप्रेंटिस अधिनियम में किए गए संशोधन के अनुसार, प्रत्येक नियोक्ता को उनके प्रतिष्ठान में प्रशिक्षित प्रशिक्षुओं की नियुक्ति के लिए एक नीति बनानी होगी। इसी को दृष्टिगत रखते हुए, रेलवे ने स्तर-1 भर्तियों की 20% रिक्तियां ऐसे प्रशिक्षुओं के लिए रखी हैं और सभी को न्याय संगत अवसर दिया है।

अप्रेंटिस अधिनियम की वचनबद्धता की स्थिति के वर्तमान नियमों के अनुसार, रेलवे अपने प्रतिष्ठानों में प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण देने के लिए रखता है। 22 दिसंबर, 2014 को संशोधित  अप्रेंटिस अधिनियम, 1961 के भाग 22 (i) के अनुसार यह प्रावधान है कि प्रत्येक नियोक्ता किसी प्रशिक्षु, जो उनके प्रतिष्ठान में अप्रेंटिसशिप प्रशिक्षण की अवधि पूरी कर चुका हो, की भर्ती के लिए अपनी स्वयं की नीति बनाएगा। उपरोक्त के अनुपालन में, रेलवे बोर्ड के 21.06.2016 तिथि के पत्र संख्या E(NG)II/2016/RR-1/8 में सावधानी पूर्वक निर्देश जारी किया गया है, जो कहता है कि स्तर-1 के पद/श्रेणी की सीधी भर्ती की स्थिति में 20% रिक्तियों में रेलवे प्रतिष्ठानों में प्रशिक्षित कोर्स कम्पलीटेड एक्ट अप्रेंटिस (सीसीएए) को प्राथमिकता दी जाएगी। 2018 के दौरान, स्तर-1 में आरआरबी 1288 प्रशिक्षुओं की भर्ती कर चुका है। इसके अतिरिक्त, वर्तमान में प्रक्रियाधीन स्तर-1 की 1,03,769 अधिसूचित रिक्तियों में 20% (अर्थात20,734 रिक्तियां) प्रशिक्षुओं के लिए आरक्षित रखी गई हैं।

उल्लेखनीय है कि आरआरबी ने तीन केंद्रीकृत रोजगार अधिसूचनाएं (सीईएन) जारी की हैं। विभिन्न श्रेणियों के कर्मचारियों की कुल लगभग 1.4 लाख रिक्तियों के लिए सीईएन 01/2019 (एनटीपीसी श्रेणियां), सीईएन 03/2019 (पृथक और मंत्रालय-संबंधी श्रेणियां) और आरआरसी-01/2019 (स्तर-1श्रेणियां) रलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) द्वारा जारी की गई हैं। इन रोजगार अधिसूचनाओं के समक्ष 2.40 हजार से अधिक उम्मीदवारों ने आवेदन किया है। रेल मंत्रालय ने कंप्यूटर आधारित परीक्षा (सीबीटी) के सुचारुपूर्वक आयोजन के लिए आवश्यक तैयारियां की हैं, यह परीक्षा 15 दिसंबर, 2020 के बाद आयोजित होना निर्धारित है जैसा की पहले अधिसूचित किया गया था। सीबीटी के नियत समय का विवरण उचित समय आरआरबी की वेबसाइट पर इन रोजगार अधिसूचनाओं के लिए अलग-अलग अपलोड किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: