वाइस एडमिरल एसआर सरमा ने सामग्री,भारतीय नौसेना के प्रमुख के रूप में कार्यभार संभाला

Font Size

नई दिल्ली। वाइस एडमिरल एस आर सरमा,एवीएसएम, वीएसएम ने आज (01 सितंबर, 2020) भारतीय नौसेना के सामग्री विभाग के प्रमुख के रूप में पदभार ग्रहण किया है। वाइस एडमिरल एसआर सरमा आईआईएससी, बेंगलुरु से कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में पोस्ट ग्रेजुएट हैं और नेवल हायर कमांड कोर्स के विशिष्ट छात्र हैं।

अपने शानदार करियर के दौरान साढ़े तीन दशकों में एडमिरल ने भारतीय नौसेना के जहाजों विंध्यगिरि,राणा,कृष्णा और मैसूर में विभिन्न क्षमताओं में काम किया है।

उन्होंने मुंबई और विशाखापत्तनम में नौसेना पोतगाहों और वेपंस एंड इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम इंजीनियरिंग एस्टाब्लिशमेंट (डब्ल्यूईएसईई),मुख्यालय,उन्नत सामरिक पोत कार्यक्रम (मुख्यालय एटीवीपी)और नई दिल्ली स्थित नौसेना मुख्यालय में विविध और चुनौतीपूर्ण पदों पर काम किया है।

फ्लैग ऑफिसर के रूप में वाइस एडमिरल एसआर सरमा ने नौसेना मुख्यालय में सामग्री (आईटी और सिस्टम) विभाग में सहायक प्रमुख, नौसेना पोतगाह, विशाखापट्टनम में एडमिरल अधीक्षक, मुख्य कर्मचारी अधिकारी (तकनीकी),मुख्यालय ईएनसी,विशाखापट्टनम में महानिदेशक नौसेना परियोजना,मुख्यालय एटीवीपी में कार्यक्रम निदेशक,और नौसेना मुख्यालय में युद्धपोत उत्पादन और अधिग्रहण विभाग में नियंत्रक के रूप में काम किया है।

वाइस एडमिरल एसआर सरमा को उनकी विशिष्ट सेवाओं के लिए अति विशिष्ट सेवा पदक और विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया। उन्हें 1994 में लेफ्टिनेंट वीके जैन स्वर्ण पदक से भी सम्मानित किया गया है।

 प्रिंसिपल स्टाफ ऑफिसर और भारतीय नौसेना में सबसे वरिष्ठ तकनीकी अधिकारी के रूप में,वाइस एडमिरल एसआर सरमा सभी इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक, हथियार, सेंसर और जहाजों तथा पनडुब्बियों के लिए आईटी से संबंधित उपकरण एवं प्रणाली के रख-रखाव प्रबंधन और जीवन-चक्र उत्पाद समर्थन से संबंधित सभी कार्यों के साथ ही प्रमुख समुद्री तथा तकनीकी बुनियादी ढांचे के निर्माण के प्रभारी होंगे।

वह वाइस एडमिरल जीएसपब्बी,पीवीएसएम,एवीएसएम,वीएसएम की जगह लेंगे जो लगभग चार दशकों के शानदार नौसेना करियर के पूरा होने पर सेवा निवृत्त हो रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: