उज्जैन पुलिस ने विकास दुबे को यूपी पुलिस को सौंपा, एसटीएफ टीम यूपी रवाना, 8 घंटे तक चली पूछताछ

Font Size

उज्जैन। उज्जैन पुलिस ने कानपुर में एक डीएसपी सहित आठ यूपी पुलिस के अधिकारियों व कर्मियों की हत्या करने के मुख्य आरोपी विकास दुबे को यूपी पुलिस को सौंप दिया है। उज्जैन पुलिस ने उससे ही लगभग 8 घंटे तक पूछताछ की और पूरी तस्दीक करने के बाद उसे यूपी पुलिस को सौंप दिया। यह जानकारी उज्जैन के एसएसपी मनोज कुमार सिंह ने देर शाम आयोजित प्रेस वार्ता में दी।

उज्जैन के एसएसपी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि जब विकास दुबे महाकाल के दर्शन के लिए परिसर के अंदर पहुंचा तो सबसे पहले फूल वाले ने उसे पहचाना और आशंका के मद्देनजर उसने महाकाल मंदिर में तैनात दो सुरक्षाकर्मियों को इसकी जानकारी दी और फिर उन सुरक्षाकर्मियों ने महाकाल थाना पुलिस को इसके बारे में सूचित किया।

उनके अनुसार पुलिस तत्काल महाकाल मंदिर पहुंची और जिस द्वार शिबू दर्शन के लिए मंदिर में प्रवेश कर रहा था उस पर पूरी चौकसी रखी उसके वापस होने के बाद उससे पूछताछ की गई तो उसने पहले अपना नाम शुभम बताया और जब उससे आईडी मांगी गई तो भी उसने किसी अन्य व्यक्ति की आईडी जो फर्जी थी उसे दिखाने की कोशिश की।

उन्होंने पत्रकारों के सवाल पर कहा कि अभी यह मामला दो राज्यों के बीच का है और बहुत संगीन मुद्दा है इसलिए इसकी जांच की जा रही है। पत्रकार लगातार उनसे सवाल पूछते रहे कि यह गिरफ्तारी है या फिर विकास दुबे का सरेंडर इस पर एसएसपी ने स्पष्ट किया कि वह महाकाल मंदिर में आए थे और फूल वाले विक्रेता ने उसकी पहचान की और उसकी जानकारी थाने को सिक्योरिटी के माध्यम से दी गई इस सवाल का सीधा जवाब देने से वह बचते रहे।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस मामले की पूरी जांच चल रही है इसमें कौन शामिल थे जिनके यहां वह रात में रुका था या फिर किसी ने उसे यहां संरक्षण दी इसकी पूरी जांच की जा रही है और यहां जो भी साक्ष्य मिलेंगे उसे यूपी पुलिस के साथ साझा किया जाएगा।

एसएससी मनोज कुमार ने यह स्पष्ट किया कि यूपी से एसटीएफ की टीम उज्जैन आई थी जिन्हें उन्होंने पंचनामा करने के बाद सभी साक्ष्यों के साथ और जो पूछता उन्होंने की थी उसकी जानकारी सहित अपराधी विकास दुबे को सौंप दिया।

एसएसटी ने कहा कि बहुत शातिर अपराधी है जिसने बड़े जघन्य अपराध को अंजाम दिया है जिसमें एक डीएसपी सहित आठ पुलिस अधिकारी और कर्मी शहीद हुए हैं इसलिए इसकी पूरी विभिन्न दृष्टिकोण से जांच की जा रही है।

उन्होंने कहा कि यूपी एसटीएफ की टीम विकास दुबे को लेकर उज्जैन पुलिस के संरक्षण में सड़क मार्ग से यूपी के लिए रवाना हो चुकी है।

पत्रकारों की कई सवालों से बचते हुए उज्जैन के एसएसपी मनोज कुमार सिंह ने कहा कि उससे पूछताछ की गई है और उसकी पहचान कानपुर के एसएसपी के द्वारा भेजे गए साक्ष्य के आधार पर की गई। उन्होंने कहा कि उज्जैन में उसके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं है और सभी वारदातों को अंजाम देने का आरोप उस पर यूपी में है। इसलिए कानपुर के एसएसपी की ओर से उनके पास विकास दुबे को यूपी पुलिस को सौंपने का पत्र आया और उसके आधार पर उन्होंने उसे यूपी पुलिस को सौंप दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: