एक करोड़ रुपये सुपारी देकर अपने ही ससुर की हत्या करवा दी, दामाद सहित तीन गिरफ्तार

Font Size

गुरुग्राम। अपने ही ससुर की सुपारी देकर हत्या करवाने वाले आरोपी दामाद व गोली मारने वाले 02 आरोपियों सहित कुल 3 व्यक्तियों को अपराध शाखा पालम विहार, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार आरोपी व उसकी पत्नी के बीच झगङा होने पर ससुर (मृतक हरपाल) द्वारा आरोपी के साथ मारपीट की गई थी जिसकी रंजीश रखते हुए दामाद ने एक करोङ रुपयों की सुपारी देकर ससुर कराई थी हत्या।

एसीपी क्राइम ने बताया कि गत 26 जनवरी 2019 को थाना बादशाहपुर, गुरुग्राम में एक टेलिफोन आर्टीमिस हस्पताल, गुरुग्राम से हरपाल पुत्र उदमीराम गांव फाजिलपुर झाडसा गोली लगने के कारण मृत्यु होने के सम्बन्ध में प्राप्त हुआ।

इस सूचना पर थाना बादशाहपुर, गुरुग्राम की पुलिस टीम आर्टीमिस हस्पताल पहुंची जहां पर पुलिस टीम द्वारा मृतक हरपाल पुत्र उदमीराम गांव फाजिलपुर, गुरुग्राम का Dead रुक्का व MLC प्राप्त की। इसी दौरान आर्टीमिस हस्पताल Emergency Ward में जसवन्त सिंह पुत्र उदमीराम गांव फाजिलपुर (झाडसा), गुरुग्राम ने पुलिस टीम को एक लिखित शिकायत के माध्यम से बतलाया कि दिनांक 26.01.2019 को समय करीब 8.40 pm पर इसके पास इसके गांव से फोन द्वारा सुचना मिली कि इसके भाई हरपाल पुत्र उदमीराम को गोली लगी है जिसे ईलाज के लिए आर्टीमिस होस्पिटल लेकर गए है।

उन्होंने बताया कि सूचना पाकर यह आर्टीमिस हस्पताल पहुंचा जहां पर इसे इसके भाई हरपाल की बेटी ने बतलाया कि वह और उसके पिताजी हरपाल प्लाट से घर को जा रहे थे तो दो मोटरसाईकिल पर सवार होकर कुछ लोग आए और उसके साथ झगडा करने लगे व उसके पिता हरपाल को गोली मारकर भाग गए। इसके बाद वहां से गुजर रहे लोगों ने उसके पिताजी को होस्पिटल पहुंचाया। हस्पताल पहुचंते-2 इसके भाई हरपाल की गोली लगने से मौत हो गई।

▪️इस शिकायत पर थाना बादशाहपुर, गुरुग्राम में कानून की उचित धाराओं के तहत अभियोग अंकित किया गया।

▪️इस अभियोग में कार्यवाही करते हुए निरीक्षक बिजेन्द्र हुड्डा, प्रभारी अपराध शाखा पालम विहार, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने अपने अथक प्रयसों से, अपने गुप्त सुत्रों की सहायता से, अपनी समझबुझ से व पुलिस प्रणाली का प्रयोग करते हुए व उक्त अभियोग में हत्या की वारदात को अन्जाम देने वाले निम्नलिखित 03 आरोपियों को कल दिनांक 02.07.2020 को मोकलवास-पंचगाँव रोङ के.एम.पी. के पास पंचगाँव, गुरुग्राम से काबू करने में बङी सफलता हासिल की हैः-

1. नरेश पुत्र लक्ष्मी नारायण निवासी गांव भोकरका थाना पाटोदी जिला गुरुग्राम।

2. जयवीर पुत्र तालेराम निवासी गांव खेडला थाना सोहना जिला गुरुग्राम।

3. विकास यादव पुत्र सतीश चंद निवासी गांव मोकलवास थाना बिलासपुर गुरुग्राम।

▪️उक्त आरोपियें को उपरोक्त अभियोग में नियमानुसार गिरफ्तार किया गया।

▪️आरोपियों से पुलिस पूछताछ में ज्ञात हुआ कि उपरोक्त अभियोग में मृतक हरपाल के 01 लडक़ी है और 01 लड़की को हरपाल ने गोद लिया हुआ था। गोद ली हुई बेटी की शादी उक्त आरोपी नरेश के साथ हुई थी व दूसरी लड़की की शादी उक्त आरोपी के छोटे भाई राहुल के साथ हुई थी। मृतक हरपाल आरोपी नरेश कुमार उक्त का ससुर था। मृतक हरपाल की बेटी व दामाद नरेश उक्त का आपस में झगङा रहता था। बेटी व दामाद के झगङे को लेकर मृतक हरपाल अपनी बेटी को अपने घर रखता था। इन झगङो के कारण मृतक हरपाल द्वारा अपने दामाद (आरोपी नरेश) के साथ लङाई-झगङा भी हुआ।

▪️पुलिस पूछताछ में खुलाशा हुआ कि उक्त आरोपी नरेश अवैध हथियार के मामले में जेल गया था। जेल में इसकी मुलाकात उक्त आरोपी विकास यादव पुत्र सतीश चंद निवासी गांव मोकलवास थाना बिलासपुर व एक अन्य साथी से हुई। उसके बाद ये सभी जमानत पर बाहर आ गए और आपस में मिलना झुलना शुरू हो गया। जून 2018 में आरोपी नरेश उक्त के गांव में इसकी दादी का स्वर्गवास हो गया जिस पर यह अपनी पत्नी सुमन को अपने पास भिवाड़ी ले बुला लिया और जब इसने अपनी पत्नी सुमन को गांव में ले जाने के लिए कहा तो इसकी पत्नी ने मना कर दिया, जिस पर आरोपी नरेश व आरोपी की पत्नी सुमन के साथ झगड़ा हो गया और सुमन का पिता हरपाल अपने साथ कुछ व्यक्तियों को लाकर इसके साथ मारपीट करके सुमन को अपने साथ अपने घर ले गया। आरोपी नरेश व इसकी पत्नी दोनों को तलाक का केस चल रहा है। आरोपी नरेश उक्त ने अपने ससुर हरपाल की इस हरकत के कारण उसको जान से मारने की ठान ली। हरपाल के कोई लङका नही होने के कारण हरपाल की प्रोपर्टी भी हरपाल के मरने के बाद आरोपी आरोपी नरेश की पत्नी के नाम आनी थी जिससे वह बहला-फुसला कर ले लेता। आरोपी नरेश ने अपने साथी विकास उक्त से मिलकर अपने ससुर हरपाल को मारने के लिए एक करोड रुपए नगद देने को कहा। उसके बाद उक्त आरोपी नरेश के कहने पर उक्त आरोपी विकास ने हरपाल की हत्या करने का षड्यंत्र रचा व अपने दो साथी राहुल व जयवीर को हरपाल को हत्या करने के लिए भेजा और योजनानुसार राहुल व जयवीर ने हत्या की वारदात को अन्जाम भी दिया।

▪️आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बतलाया कि अब इसने अपने साथी विकास को अपने ससुर की हत्या करने के पैसे देने के लिए अपनी दादालाई जमीन भी उसके नाम करवा दी थी। नरेश के पिता ने वह जमीन वापिस अपने नाम करवा ली। अब यह विकास को पैसे देने का इन्तजाम कर रहा था इसी दौरान इसे पुलिस ने पकङ लिया।

▪️आरोपियों से पूछताछ जारी है, जिन्हे आज अदालत के सम्मुख पेश करके पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लिया जाएगा।

▪️पुलिस हिरासत रिमाण्ड के दौरान आरोपियों से अन्य साथी आरोपियों के बारे में गहनता से पूछताछ करते हुए उपरोक्त अभियोग की वारदात को अन्जाम देने में प्रयोग किए गए हथियार बरामद किए जाएगें। अभियोग अनुसंधानाधीन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: