कोरोना संक्रमण में केंद्रीय विद्यालयों में भी क्वारंटीन केंद्र बनाने का ऑफर

Font Size

नई दिल्ली :  कोविड​​-19 के खतरे के मद्देनजर इस चुनौतीपूर्ण वक्त में मानव संसाधन विकास मंत्रालय भी सक्रिय है.  देश भर के सभी शैक्षणिक संस्थानों में रोकथाम के और एहतियाती कदम उठाते हुए संयुक्त रूप से कोविड​​-19 का मुकाबला करने का प्रयास जारी हैं। इस संबंध में कोविड-19 के खिलाफ चल रही मौजूदा लड़ाई में केंद्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस) ने भी अपना योगदान देने के लिए कई कदम उठाए हैं ।

 

केंद्रीय विद्यालयों में क्वारंटीन केंद्र

 

देश में कोविड-19 ने जो खतरनाक स्थिति पैदा कर दी है उसे ध्यान में रखते हुए, यह निर्णय लिया गया था कि किसी भी रक्षा प्राधिकरण या जिला प्रशासन से औपचारिक अनुरोध मिलने पर, संबंधित स्कूल कोविड-19 के संदिग्ध मामलों में अस्थायी आवास के लिए केवी स्कूल भवनों की कक्षाओं का उपयोग करने की अनुमति देंगे। अब तक देश भर में 80 केंद्रीय विद्यालय स्कूलों को क्वारंटीन केंद्रों के रूप में उपयोग करने के लिए विभिन्न सक्षम अधिकारियों द्वारा लिया जा चुका है।

 

पीएम-केयर्स फंड में योगदान

 

केवीएस स्टाफ के शिक्षकों और गैर-शिक्षक स्टाफ ने कोविड-19 के प्रकोप के कारण उपजे इन मुश्किल क्षणों के दौरान राष्ट्र का समर्थन करने के लिए अपने सहयोग के तौर पर पीएम-केयर्स फंड में 10,40,60,536/-रुपये का योगदान दिया है। इस राशि में व्यक्तिगत योगदान एक दिन के वेतन से लेकर 1 लाख रुपये तक का रहा है।

 

केवीएस शिक्षकों की पहल

 

जिम्मेदार शिक्षकों और मार्गदर्शकों के तौर पर बड़ी संख्या में केवीएस शिक्षक कोविड-19 की वैश्विक महामारी का सामना करने के इस अवसर पर आगे आते हुए अपने छात्रों के साथ डिजिटल मंचों के माध्यम से जुड़ रहे हैं ताकि अच्छी गुणवत्ता वाले शैक्षणिक समय के नुकसान की भरपाई की जा सके।

 

केवीएस ने अपने सभी प्रधानाचार्यों के साथ कुछ कार्रवाई के बिंदु साझा किए हैं जिन्हें जितना संभव हो लागू किया जा सके और व्यवस्था में मौजूद सभी शिक्षकों को प्रोत्साहित किया जा सके कि वे अपने छात्रों को डिजिटल माध्यम से सीखने हेतु जोड़ने का काम करें। हमारे शिक्षकों द्वारा आयोजित की जाने वाली ऑनलाइन कक्षाओं के लिए एक आवश्यक प्रोटोकॉल भी तैयार किया गया है।

 

एनआईओएस मंच का उपयोग करना

 

केवीएस ने अपने स्वयं प्रभा पोर्टल से 7 अप्रैल 2020 से शुरू होने वाली माध्यमिक और उच्च माध्यमिक कक्षाओं के लिए एनआईओएस के रिकॉर्ड किए गए और लाइव कार्यक्रमों के सबकों की सारणी साझा की है।

 

शिक्षकों, छात्रों और उनके अभिभावकों के बीच व्यापक प्रचार सुनिश्चित करने के लिए सभी विद्यालयों में इस सूचना का प्रसार किया गया है। शिक्षकों को ई-मेल, वाट्सएप, एसएमएस आदि विभिन्न मीडिया के माध्यम से छात्रों से संपर्क करने की सलाह दी गई है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इस कार्यक्रम से अधिकतम संख्या में विद्यार्थी लाभान्वित हो सकें।

 

लाइव बातचीत के लिए शिक्षकों का नामांकन

 

केवीएस ने एनआईओएस द्वारा स्वयं प्रभा पोर्टल पर लाइव सत्रों के लिए कुछ चुने गए शिक्षकों को नामित किया है ताकि वे स्काइप और लाइव वेब चैट के माध्यम से शिक्षार्थियों के संदेहों का समाधान कर सकें। इन नामांकित शिक्षकों का विवरण सभी आरओ के साथ साझा किया गया है।

 

ये नामांकित शिक्षक उसी दिन के सुबह के सत्र में प्रसारित विषय वस्तु पर अतिरिक्त सामग्री / नोट्स तैयार करेंगे, ताकि लाइव सत्र के दौरान विद्यार्थियों की शंकाओं को स्पष्ट किया जा सके और अगर लाइव सत्र के दौरान शंकाएं नहीं आ रही हैं तो संबंधित संकाय इस सामग्री की पुनरावृत्ति करेंगे या पीपीटी / उपयुक्त शिक्षण सहायक सामग्री के माध्यम से विषय वस्तु को प्रदान करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: