सुरक्षा मानकों के साथ खिलवाड़ करने वाले स्कूलों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई : उपायुक्त

Font Size

गुरूग्राम, 28 जनवरी। स्कूल परिसरों के अंदर तथा स्कूल बसों में विद्यार्थियों की सुरक्षा सर्वोपरि है। इस मामले में कोताही करने वाले स्कूलों की जिम्मेदारी तय करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सुरक्षा मानको को लेकर जिला प्रशासन द्वारा गेमिंग माॅडल अपनाते हुए  प्राईवेट स्कूलों की रैंकिंग की जाएगी।  यह बात गुरूग्राम के उपायुक्त अमित खत्री ने आज सैक्टर 45 स्थित डीपीएस पब्लिक स्कूल में सुरक्षित स्कूल वाहन पॉलिसी के तहत आयोजित नीजी स्कूलों के प्राचार्यो तथा प्रबंधकों की बैठक को संबोधित करते हुए कही।

आज की बैठक में नीजी स्कूलों की सेफटी आॅडिट करने वाली टीम के सदस्यों गीरिश तथा दिव्या वैष्णव ने स्कूल परिसर तथा स्कूल बसों में विद्यार्थियों की सुरक्षा में पाई गई खामियों के बारे में स्कूल का नाम लिए बगैर बताया। गीरिश रोड सेफटी आॅफिसर हैं तथा दिव्या, बड फाउंडेशन से जुड़ी हुई है तथा गुरूग्राम पुलिस के साथ कन्सलटेंट के तौर पर काम कर रही है।

दिव्या ने पोक्सो एक्ट तथा यौन अपराधों के बारे में बैठक में विस्तार से जानकारी दी। 

इस बैठक को संबोधित करते हुए उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि बैठक में विद्यार्थियों की सुरक्षा से जुडे़ कई पहलुओं पर विचार-विमर्श किया गया है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन के लिए विद्यालय परिसर के अंदर तथा स्कूल बसों में विद्यार्थियों की सुरक्षा सर्वोपरि है और इस मामले में कोताही सहन नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि सुरक्षित स्कूल वाहन पोलिसी को लागू करने के लिए सन् 2017 में तत्कालीन उपायुक्त द्वारा जारी किए गए धारा 144 के आदेश वर्तमान में भी लागू हैं और कोताही करने वाले स्कूलों के खिलाफ निषेधाज्ञा उल्लंघन की कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि अब ‘चलता है‘ वाला रवैया नहीं चलेगा और गेमिंग माॅडल अपनाते हुए रैंकिंग की जाएगी जिसमें सुरक्षा आॅडिट में बच्चों के लिए अच्छे सुरक्षा प्रबंध करने वाले स्कूलों की प्रशंसा होगी। वहीं सुरक्षा मानकों को लागू नहीं करने वाले स्कूलों का नाम सार्वजनिक करते हुए उनकी जिम्मेदारी तय की जाएगी। उपायुक्त ने कहा कि प्रशासन इस मामले में ‘नेमिंग एण्ड शेमिंग‘ का फार्मूला अपनाएगा।  उन्होंने नीजी स्कूलों के प्रतिनिधियों से कहा कि वे कैजुअल अप्रोच ना अपनाए और सरकार द्वारा बच्चों की सुरक्षा के लिए निर्धारित किए गए मानकों को अपने विद्यालय परिसर तथा स्कूल बस में लागू करवाएं।

श्री खत्री ने यह भी कहा कि कोई भी व्यक्ति परफेक्ट नहीं है और कमियां हर व्यक्ति में होती हैं लेकिन उन कमियों को दूर करने के लिए हम मानसिक रूप से तैयार हों तथा सीखने की मंशा रखें। 

इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त एवं क्षेत्रीय यातायात प्राधिकरण के सचिव प्रशांत पंवार ने अपने विचार रखते हुए कहा कि उपायुक्त श्री खत्री द्वारा दिए गए आदेशों की पालना सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने कहा कि सुरक्षा मानकों की अनदेखी करने वाले स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई होगी। साथ ही श्री पंवार ने कहा कि जैसा हम अपने बच्चों की सुरक्षा चाहते हैं, वैसा ही सुरक्षित वातावरण विद्यालयों में बच्चों को मिले। उन्होंने कहा कि हम बच्चों के लिए घर से स्कूल लाने-ले जाने तथा स्कूल परिसर में सुरक्षा के न्यूनतम स्टैंडर्ड तो सुनिश्चित कर ही सकते हैं।

जिला शिक्षा अधिकारी कैप्टन इंदू बोकन ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि इस बैठक का उद्देश्य है कि प्रत्येक विद्यार्थी स्कूल परिसर तथा स्कूल बस में अपने आपको सुरक्षित महसूस करे। डीपीएस पब्लिक स्कूल सैक्टर 45 की प्राचार्या श्रीमती अदिती ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि बैठक में उच्च अधिकारियों के शामिल होने से पता चलता है कि विद्यार्थियों की सुरक्षा के प्रति जिला प्रशासन गंभीर है और प्रशासन नीजी स्कूलों के साथ खड़ा है।

  इस अवसर पर उपायुक्त अमित खत्री के अलावा, अतिरिक्त उपायुक्त प्रशांत पंवार, जिला शिक्षा अधिकारी कैप्टन इंदू बोकन, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी प्रेमलता यादव, डीपीएस पब्लिक स्कूल सैक्टर 45 की प्राचार्या श्रीमती अदिती, सैक्टर 14 डीएवी स्कूल की प्राचार्या अपर्णा अरि सहित जिला के कई नीजी स्कूलों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: