न्यू जेन मोबिलिटी सम्मिट 2019 देश का सबसे बड़ा टेक्नोलॉजी शो : दिनेश त्यागी (आईकेट निदेशक)

Font Size

गुरुग्राम के मानेसर स्थित आईकेट सेंटर में 27 से 29 नवम्बर तक होगा सम्मेलन का आयोजन

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नीतिन गडकरी करेंगे सम्मेलन का उद्घाटन

केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री प्रकास जावरेकड भी होंगे शामिल

15 देशों के 2500 से अधिक विशेषज्ञ होंगे शामिल

120 टेक्निकल रिसर्च पेपर्स भी होंगे प्रदर्शित

200 स्टॉल्स पर ऑटोमोटिव क्षेत्र के उत्पादक करेंगे अपने उत्पाद का प्रदर्शन

रोड सेफ्टी पर सम्मेलन में होगा सर्वाधिक फोकस

सुभाष चौधरी/संपादक

नई दिल्ली। इंटरनेशनल सेंटर ऑफ ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी “आइकेट” न्यू जेन मोबिलिटी सम्मिट 2019 आयोजित करने जा रहा है। तीन दिवसीय यह सम्मेलन देश में अबतक का सबसे बड़ा टेक्नोलॉजी शो होगा जिसमें भारत सहित 14 देशों के ऑटोमोटिव तकनीकि विशेषज्ञ शामिल होंगे जिनमें लाइव टेस्ट डेमोंस्ट्रेशन, ट्रेनिंग सेशन, पैनल डिस्कशन सहित विविध विषयों पर 120 से अधिक टेक्निकल रिसर्च पेपर्स भी प्रदर्शित किए जाएंगे । 27 नवम्बर से आरम्भ होने वाले इस मेगा इवेंट का उद्घाटन केंद्रीय सड़क परिवहन एवं जहाज रानी मंत्री नितिन गडकरी करेंगे जबकि दूसरे दिन के मुख्य अतिथि केंद्रीय भारी उद्योग एवं लोक उपक्रम मंत्री और विशिष्ट अतिथि के रूप में केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर होंगे।

यह जानकारी आइकेट के निदेशक दिनेश त्यागी ने नई दिल्ली स्थित प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में आयोजित प्रेसवार्ता में दी। उन्होंने बताया कि न्यू जेन मोबिलिटी समिट 2019 इस संस्था द्वारा आयोजित किये जाने वाले सम्मेलन का फर्स्ट एडिशन है जिसकी घोषणा लगभग एक वर्ष पूर्व ही कर दी गयी थी। इसके लक्ष्य का आकलन करते हुए इसकी रूपरेखा तभी से तैयार की जा रही थी और अब वह समय आ गया है जब इसका अंतरराष्ट्रीय स्वरूप देखने को मिलेगा जिसका लाभ देश व दुनिया में लगभग 125 साल से चल रहे आई सी इंजन का माकूल विकल्प ढूंढने में मिलेगा। उन्होंने बताया कि हमारा सर्वाधिक फोकस ग्लोबल आवश्यकताओं के अनुरूप नया तकनीकि समाधान तैयार करने पर है जिसे दुनिया के सामने रखा जाएगा। हमारे इनिजिनियर्स इस दिशा में गंभीरता से रिसर्च कर रहे हैं।

वर्तमान में आए ईलेक्ट्रिक इंजन के विकल्प की चर्चा करते हुए श्री त्यागी ने कहा कि इसमें कई चुनौतियां हैं लेकिन इनको लेकर हम इंजीनियर्स अपनी जिम्मेदारियों को समझते हैं और उस दिशा में गम्भीरता से काम भी कर रहे हैं। उनके अनुसार केंद्र सरकार की ओर से इस दृष्टिकोण को सामने रख कर ही लगभग 1200 करोड़ के निवेश के साथ आईकेट जैसे आधुनिक सिस्टम और सुयोग्य प्रोफेशनल्स वाले अंतरराष्ट्रीय संस्था की स्थापना की गई है।

आगामी 27 से 29 नवम्बर तक गुरुग्राम के मानेसर सेक्टर 11 स्थित आईकेट कैंपस में आयोजित होने वाले न्यू जेन मोबिलिटी समिट 2019 की रूपरेखा की चर्चा करते हुए श्री त्यागी ने बताया कि इसमें ऑटोमोटिव क्षेत्र के सभी नीति निर्धारक, उत्पादक, ट्रेडर्स एवं इलेक्ट्रिक/हाइब्रिड वाहन उत्पादकों को आमंत्रित किया गया है। नई तकनीक के विकास को संस्था का लक्ष्य बताते हुए उन्होंने कहा कि हम इस क्षेत्र के प्रोडक्ट्स को विकसित करने में सहयोग करते हैं जिसके लिए हमारे पास सभी प्रकार के कंपोनेंट्स और सिस्टम्स उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि यह अब तक का देश में सबसे बड़ा तकनीकि सम्मेलन होगा जिसमें लाइव डायनामिक डेमोंस्ट्रेशन किया जाएगा। इस दौरान ट्रेनिंग सेशंस का भी आयोजन किया जाएगा जबकि भारत सहित 15 देशों के 30 प्रमुख तकनीकि विशेषज्ञ वक्ता भी पैनल डिस्कशन में अपने अनुभव साझा करेंगे। साथ ही ट्रैक टेस्टिंग का नजारा भी उद्यमी और अन्य डेलीगेट्स देख पाएंगे।

उनके अनुसार इस क्षेत्र में इको फ्रेंडली और एनर्जी सेविंग तकनीक के आविष्कार के लिए बड़े पैमाने पर रिसर्च हो रहे हैं। इसलिए सम्मेलन में 120 टेक्निकल पेपर्स भी इंटरनेशनल विशेषज्ञों द्वारा प्रदर्शित किए जाएंगे। उनके अनुसार न्यू जेनरेशन की मोबिलिटी सुरक्षित और किफायती हो इसे ध्यान में रखते हुए वाहन व कम्पोनेंट्स तैयार करने वाले उत्पादकों द्वारा यहां 200 स्टॉल्स पर अपने उत्पाद भी प्रदर्शित किए जाएंगे।
विभिन्न देशों अमेरिका, यूरोप, जापान और अन्य एशियाई देशों के प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक एवं अनुसंधान संगठनों तथा परीक्षण प्रयोगशालाओं में कार्यरत विशेषज्ञ भी इस शिखर सम्मेलन में शिरकत करेंगे और स्मार्ट एवं हरित प्रौद्योगिकियों के विकास से जुड़े अपने अनुभवों तथा ज्ञान को साझा करेंगे। इसके अलावा, ये विशेषज्ञ इस उद्योग के समक्ष मौजूद चुनौतियों पर भी चर्चाएं करेंगे। इस शिखर सम्मेलन के आयोजन का उद्देश्य ऑटोमोटिव क्षेत्र से जुड़े मूल उपकरण निर्माताओं (ओईएम), प्रोफेशनलों, अनुसंधानकर्ताओं, अकादमिक विशेषज्ञों, वाहन प्रणाली आपूर्तिकर्ताओं, परीक्षण उपकरणों के आपूर्तिकर्ताओं, गुणवत्ता प्रबंधकों, उत्पाद नियोजकों, उपकरण डेवलपरों और एसएई के सदस्यों के साथ-साथ विश्व भर के विद्यार्थियों को भी एकजुट करना है।

आईकेट के निदेशक दिनेश त्यागी ने बताया कि कार्यक्रम का उद्घाटन केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी करेंगे जबकि दूसरे दिन केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री प्रकास जावरेकड मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम का समापन केंद्रीय भारी उद्योग राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल करेंगे साथ ही संबंधित मंत्रालयों के सचिव व निदेशक स्तर के दर्जनों वरिष्ठ अधिकारी व विशेषज्ञ भी परिचर्चा में शामिल होंगे।
इसके अलावा, इस सम्मेलन के दौरान भावी वाहन प्रौद्योगिकियों जैसे कि कनेक्टेड मोबिलिटी, ऑटोनोमस वाहनों, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, वैकल्पिक ईंधनों, इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम, हाइड्रोजन फ्यूल सेल, हाइड्रोजन आईसी इंजन, व्हीकल डायनामिक्स, उन्नत सामग्री एवं लाइटवेटिंग और री-साइक्लिंग से जुड़े प्रयोगशाला परीक्षणों को भी दर्शाया जाएगा।

एक सवाल के जवाब में श्री त्यागी ने बताया कि आईकेट को बिजनेस मॉडल के आधार पर संचालित किया जा रहा है। यहां 1200 करोड़ के इन्वेस्टमेंट से इंटरनेशनल स्तर की आधारभूत संरचना का निर्माण किया गया है जिनमें 850 सीटों वाला आधुनिक ऑडिटोरियम भी तैयार किया गया है। इसके साथ ही एक बेहतरीन बैंकट हाल भी है जिसे व्यावासायिक उपयोग के लिए दिए जाने का निर्णय लिया गया है। यह इंडस्ट्रियल एक्टिविटी के लिए एक आदर्श इंडस्ट्रियल लोकेशन है जहां कॉन्फ्रेंस रूम भी उपलब्ध है।

प्रेसवार्ता को आईकेट की सीनियर जीएम प्रमिला टिक्कू ने भी संबोधित किया। उनका कहना था कि हमारा फोकस भविष्य में अपनाए जाने वाली उपयोगी तकनीक विकसित करने पर है। हमारा संस्थान 4 कोर टेक्नोलॉजी की दिशा में तेजी से काम कर रहा है। हम ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम में आमूल-चूल परिवर्तन ला सकेंगे ऐसी हमें उम्मीद है।

इस अवसर पर आइटेक के डीजीएम मधुसूदन जोशी ने सम्मेलन के तीन दिन के दौरान आयोजित होने वाली गतिविधियों को रेखांकित किया। उन्होंने बताया कि इसमें ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और यूके के विशेषज्ञ भी अपने अनुभव साझा करेंगे। उनके अनुसार आज ” न्यू जेन मोबिलिटी” के लिए रोड सेफ्टी सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण विषय है जिसके लिए खास तौर से रोड सेफ्टी पवेलियन तैयार किया जा रहा है जहां सड़क सुरक्षा संबंधी प्रदर्शनी आयोजित की जाएगी जिसका उद्घाटन केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी करेंगे। इसके माध्यम से लोगों को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक भी किया जाएगा और इस दिशा में अब तक क्या काम हुए हैं इसकी भी झलक दिखेगी। इनके अलावा स्टूडेंट पवेलियन और स्टार्ट अप पवेलियन भी लगाए जाएंगे जो पीएम नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है।

इससे पूर्व एक वीडियो प्रेजेंटेशन के माध्यम से आईकेट के इंफ्रास्ट्रक्चर और एक्टिविटी के बारे में विस्तार से बताया गया।

इस अवसर पर आईकेट के वरिष्ठ अधिकारियों में एस के कालिया बिजनेस हेड टू, प्रशांत विजय डीजीएम, विजयंत आहूजा डीजीएम, हेमन्त बूरा एजीएम एच आर , विकास सदन एजीएम, आदेश चौहान एजीएम, संजय गर्ग एजीएम , यू डी बंगाले, एच एस सोही, मोहनजीत सिंह सलाहकार, और पवन ठाकुर मीडिया कॉर्डिनेटर भी उपस्थित थे।

%d bloggers like this: