क्या आप बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी में सदस्य बनना चाहते हैं ?

Font Size
नगर निगम क्षेत्र की बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी में सदस्य हेतु आवेदन आमंत्रित
– वन्य जीवन, जीव विज्ञान विभागों से सेवानिवृत्त अधिकारी व कर्मचारी, एनजीओ-समिति जिनका प्राकृतिक संरक्षण, जल संरक्षण, जैव विविधता संरक्षण, जन/सामुदायिक सहभागिता में कम से कम 10 वर्ष का अनुभव हो वे बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य हेतु कर सकते हैं आवेदन
– कमेटी में कुल 7 सदस्य होंगे, जिनमें 2 महिलाएं तथा 1 अनुसूचित जाति/जनजाति से होगा
– बायोडाटा तथा अनुभव प्रमाण पत्र 28 नवम्बर तक ई-मेल eehq@mcg.gov.in पर भेजे जा सकते हैं
गुरुग्राम । नगर निगम गुरुग्राम क्षेत्र में बनने वाली बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी में सदस्य हेतु आवेदन आमंत्रित किये गए हैं। इच्छुक एवं योग्य व्यक्ति और संस्था 28 नवम्बर तक ई-मेल eehq@mcg.gov.in पर बायोडाटा और अनुभव प्रमाण पत्र भेज सकते हैं।
इस बारे में नगर निगम गुरुग्राम के आयुक्त एवं जिला उपायुक्त अमित खत्री ने बताया कि नगर निगम गुरुग्राम द्वारा बायोलॉजिकल डायवर्सिटी रूल्स-2004 में दिए गए प्रावधानों के अंतर्गत बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी का गठन किया जाना है। कमेटी में कुल 7 सदस्य होंगे, जिनमें 2 महिलाएं तथा 1 अनुसूचित जाति/जनजाति से होगा। उन्होंने बताया कि वन्य जीवन, जीव विज्ञान विभागों से सेवानिवृत्त अधिकारी व कर्मचारी, एनजीओ-समिति जिनका प्राकृतिक संरक्षण, जल संरक्षण, जैव विविधता संरक्षण, जन/सामुदायिक सहभागिता में कम से कम 10 वर्ष का अनुभव हो वे बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य हेतु आवेदन कर सकते हैं।
ये होंगे कार्य : एडिशनल म्युनिसिपल कमिश्नर वाईएस गुप्ता ने बताया कि बायोडायवर्सिटी मैनेजमेंट कमेटी जैव संसाधनों के संरक्षण एवं पौषधीय उपयोग, जैव संसाधनों तक अवैध रूप से घुस जाने को रोकने, राष्ट्रीय जैव विविधता प्राधिकरण चेन्नई तथा हरियाणा जैव विविधता बोर्ड को जब भी आवश्यक हो विभिन्न विषयों पर सलाह देगी। अपने आधिकारिता क्षेत्र के अंतर्गत वाणिज्यिक प्रयोजनों हेतु किसी व्यक्ति से जैव संसाधनों तक पहुंच या संग्रहण हेतु अधिनियम के अनुसार संग्रह शुल्क लगाने एवं वसूल करने, जैव संसाधन उपयोग करने वाले स्थानीय वैधों तथा व्यवसायियों के संबंध में आंकड़े संघारित करने, जैव संसाधन तथा पारम्परिक ज्ञान के प्रति पहुंच हेतु निर्धारित फीस के संग्रहण के ब्यौरे तथा प्राप्त फायदों एवं उनके आवंटन की विधि के ब्यौरे के संबंध में रजिस्टर में जानकारी दर्ज करेगी। इसके अलावा यह कमेटी स्थानीय जैव संसाधनों तथा सम्बन्धित पारम्परिक ज्ञान की जानकारी दर्ज करने की कार्यवाही में भी अनिवार्य रूप से शामिल होंगे तथा राष्ट्रीय जैव विविधता प्राधिकरण तथा हरियाणा जैव विविधता बोर्ड द्वारा समय-समय पर दिए गए दिशा-निर्देशों के अनुरूप जैव विविधता निधि के उपयोग एवं प्रबंधन का कार्य करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: