मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने की चुनाव तैयारियों की समीक्षा

Font Size

सी विजल पर शिकायतों का भी 100 मिनट में निपटान करने के आदेश 

लाईसैंसशुधा हथियारों को जमा करवाने के निर्देश 

चंडीगढ़ :  हरियाणा में 12 मई, 2019 को होने वाले 10 लोक सभा सीटों पर चुनाव को पारदर्शी व निष्पक्ष ढंग से सम्पन्न करवाने के लिए हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने जोरदार ढ़ंग से तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस कड़ी में आज उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलों के उपायुक्त-सह-जिला निर्वाचन अधिकारियों से लम्बी समीक्षा बैठक की और संशोधित मतदाता सूची तैयार करने से लेकर नामांकन भरने, पोलिंग पार्टियों को भेजने की तैयारियां, पीठासीन अधिकारियों की डयूटियां व ईवीएम प्रशिक्षण, पुलिस प्रशासन को मुस्तैद करना तथा इस बार चुनाव में पहली बार प्रयोग की जा रही वीवीपीएटी मशीन पर पड़े मतों की गिनती के सम्बंध में अधिकारियों को बारीकी से जानकारी दी। 
 
बैठक में राजीव रंजन ने जिला निर्वाचन अधिकारियों से आग्रह किया कि वे उनके पास लम्बित फार्म 6ए को प्रतिदिन आधार पर डिजिटलाइजड कर आयोग के पास अपलोड करें ताकि संशोधित मतदाता सूची प्रकाशित करवाई जा सके। उन्होंने कहा कि कम से कम 35 मतदाता सूची जिला निर्वाचन अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में प्रकाशित करवाना सुनिश्चित करें और सभी राजनीतिक पार्टियों के पास इन्हें भिजवाना सुनिश्चित करें। इसी प्रकार, ओवरसीज वोटर का नाम भी इस मतदाता सूची में प्रकाशित करवाएं। उन्होंने कहा कि सहायक रिटर्निंग अधिकारी सी विजल पर आई शिकायतों का भी 100 मिनट में निपटान सुनिश्चित करें। 
 
राजीव रंजन ने कहा कि जिला निर्वाचन अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि सरकारी व सार्वजनिक क्षेत्र के भवन परिसरों की विज्ञापनों के लिए निर्धारित कमर्शियल स्थलों का उपयोग करने की अनुमति राजनीतिक पार्टियों को न दें। इसी प्रकार, पार्टियों द्वारा स्टार प्रचारक के लिए उपयोग की रैली, रोडशो व मैदान से निर्धारित अवधि में पोस्टर व अन्य चुनाव प्रचार सामग्री हटवाना सुनिश्चित करें और ऐसा न करने वाले राजनीतिक दलों को ये नोटिस भिजवाएं कि चुनाव चिन्ह आवंटन अधिनियम, 1968 के नियम 61ए के तहत उनका चुनाव चिन्ह रद्द भी किया जा सकता है।
 
उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने जिलों में लाईसैंसशुधा हथियारों का जमा करवाना भी सुनिश्चित करें और इसके साथ ही वे चुनावों में डॉक्टरों, आकाशवाणी, दूरदर्शन, बीएसएनएल तथा गर्भवती महिला कर्मचारियों की डयूटी न लगाएं। पुलिस महानिदेशक से लेकर पुलिस सिपाही तक का नियंत्रण आयोग के अधीन होता है और सभी पुलिस कर्मियों के मोबाइल का डाटा तैयार किया जा रहा है। सरकारी कर्मचारियों का भी मोबाइल डाटा एचआरएमएस में लोड किया गया है। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी चुनाव डयूटी में लगे कर्मचारियों को चाहे वह सरकारी हों या गैर-सरकारी हों, सभी को समय पर पहचान पत्र जारी करें। 
 
श्री रंजन ने कहा कि सी विजल की मोनिटरिंग, दिव्यांग मतदाता की पहचान कर उनके लिए पोलिंग स्टेशन तक ले जाने की व्यवस्था, मतदाता के दिन 12 मई को रविवार होने के कारण दुकानदारों को शॉप एक्सटेबलिशमेंट एक्ट के तहत सायं 5.00 बजे के बाद भी खोलें इसके लिए समय से पहले तैयारी सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि मतदान के दिन गर्मी होने की संभावना है, इसलिए जिला चुनाव निर्वाचन अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि पोलिंग पार्टियों को ओआरएस के पैकेट दिए जाएं तथा लू से बचने के लिए डूज एंड डोंटस की हिदायतें भी जारी करें और साथ ही वे मतदाताओं से भी अपील करें कि मतदाता अपना मत डालने के लिए घर से निकलें तो पानी पीकर निकलें। 
 
उन्होंने अधिकारियों से अपील की कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए नये मतदाताओं के पंजीकरण के लिए शैक्षणिक संस्थानों में बनाए गए कैम्पस एम्बेस्डर कार्यक्रम को इस वर्ष से  पुन: लागू करें और ऐसे विद्यार्थियों को कैम्पस एम्बेस्डर बनाया जाए जिनका कैम्पस में एक या दो वर्ष का शैक्षणिक समय बचा है। 
 
इस अवसर पर हरियाणा सरकार की ओर से मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय  को लोकसभा चुनाव प्रक्रिया के संचालन में सहयोग के लिए अतिरिक्त तौर पर नियुुक्त किए गए  भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी निखिल गजराज, गीता भारती, संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. इन्द्रजीत व अपूर्व, सूचना, जनसम्पर्क एवं भाषा विभाग के अधिकारी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: