सौर ऊर्जा के क्षेत्र में फरीदाबाद को आगे बढ़ने की अपार संभावनाएं : विपुल गोयल

Font Size

तीन दिवसीय फ्यूचर एनर्जी इंडिया-2019 का समापन

नई दिल्ली/एनसीआर। भारती मीडिया द्वारा फरीदाबाद के हुडा ग्राउंड में 22 से 24 फरवरी 2019 तक नवीकरणीय ऊर्जा के भविष्य की झलक दिखाने के लिए आयोजित भारत की सबसे बड़ी कॉन्फ्रेंस और प्रदर्शनी-फ्यूचर एनर्जी इंडिया-2019 का रविवार को समापन हो गया। समापन समारोह में हरियाणा सरकार के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल शामिल हुए और अपने विचार रखे। फ्यूचर एनर्जी इंडिया 2019 के समापन सत्र के दौरान सोलर एनर्जी सोसाइटी ऑफ इंडिया एवं भारती मीडिया ने सोलर एनर्जी कॉन्फ्रेंस का आयोजन भी किया, जिसमें कई वक्ता शामिल हुए, जिन्होंने सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने पर जोर देते हुए कहा कि सौर ऊर्जा को गांव एवं शहरां में हम घर-घर तक पहुंचाएंगे।

सोलर एनर्जी कॉन्फ्रेंस में हरियाणा सरकार के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल ने कहा गया कि सौर ऊर्जा के क्षेत्र में फरीदाबाद को आगे बढ़ने की अपार संभावनाएं हैं, क्योंकि फरीदाबाद बहुत बड़ा औद्योगिक शहर है। ऐसे में उद्यमियों को भी सोलर एनर्जी की तरफ जाने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि हरियाणा राज्य में सौर ऊर्जा का उपयोग कर राज्य में हरित और स्पष्ट बिजली उत्पादन को बढ़ावा देने की नीति भी है, इसलिए फरीदाबाद को इस मौके को जमकर भुनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत में प्राकृतिक रूप से उपलब्ध ऊर्जा के संसाधनों का लाभ फरीदाबाद भी बेहतर तरीके से उठा सकता है। इसके अलावा पारिस्थितकी और ऊर्जा सुरक्षा की चुनौतियों से मुकाबला करते हुए कार्बन के कम उत्सर्जन पर आधारित स्थिर विकास में महत्वपूर्ण भूमिका भी निभा सकता है। बता दें कि कॉन्फ्रेंस और प्रदर्शनी का आयोजन केंद्र सरकार के नवीकरणीय ऊर्जा विभाग के एचएआरईडीए एवं फरीदाबाद स्मॉल इंडस्ट्री एसोसिएशन के सहयोग से किया गया। यह प्रदर्शनी मेक इन इंडिया को सपोर्ट करती है।
कार्यक्रम के आयोजक भारत कुमार ने कहा, ‘यह प्रदर्शनी पर्यावरण की सुरक्षा की चिंता के लिहाज से और पॉवर सेक्टर की डिमांड और सप्लाई में अंतर को कम करने के लिए आयोजित की गई। कॉन्फ्रेंस का फोकस अक्षय ऊर्जा संसाधनों पर रहा। भारत सरकार का मुख्य लक्ष्य 20 हजार मेगावॉट सौर ऊर्जा की क्षमता हासिल करना है। इसलिए फ्यूचर एनर्जी इंडिया 2019 केंद्र सरकार की योजनाओं को बढ़ावा दे सकता है।

उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शनी का मुख्य फोकस छत्तीसगढ़, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में सौर ऊर्जा का बाजार विकसित करना है। नवीकरणीय ऊर्जा और सौर ऊर्जा पर आयोजित इस कॉन्फ्रेंस के पास रिन्यूएबल सोलर एनर्जी को बढ़ावा देने के प्रमुख बौद्धिक संसाधन मौजूद हैं।

प्रदर्शनी में सौर ऊर्जा क्षेत्र में सक्रिय जिन दिग्गज कंपनियों ने हिस्सा लिया, उनमें सोलर पीवीऔर सीएसपी, सोलर एयर कंडीशनिंग, सोलर फूड पार्क, सोलर जेनरेटर, सोलर पंप, यूपीएस बीईई, एनटीपीसी, एनएचपीसी, बैटरी और पावर सिस्टम, बायोगैस प्लांट, बायोमास ग्रास फायर्स और बेहतरीन कुकिंग स्टोव के निर्माता शामिल हैं।

प्रदर्शनी में केंद्र और राज्य सरकार के मंत्रालयों और विभागों, एकीकृत सोलर तकनीक, इलेक्ट्रिक व्हिकल, इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम्स, इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग, एनर्जी कंसल्टेंट्स, एनर्जी एफिशिएंसी, ऊर्जा बचाने में सक्षम मटीरियल जेनरेटर और इनवर्टर्स, ग्रीन एनर्जी हाइड्रो टर्बाइन और एलईडी लाइट्स के निर्माता शामिल थे। इसके अलावा विभिन्न मंत्रालयों, जैसे- नवीकरणीय ऊर्जा, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, ऊर्जा मंत्रालयों के प्रतिनिधियों के साथ वेस्ट मटीरियल से बिजली बनाने वाली कंपनियों, विंड पावर और विंड टरबाइन बनाने वाली कंपनियों के प्रतिनिधि भी प्रदर्शनी में शरीक हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: