पीएम मोदी 19 नवम्बर को एसकॉर्ट मुजेसर-राजा नाहर सिंह (बल्लभगढ़) मैट्रो लाइन का भी करेंगे उदघाटन

Font Size
चंडीगढ । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आगामी 19 नवंबर, 2018 को गुरू ग्राम से एसकॉर्ट मुजेसर-राजा नाहर सिंह (बल्लभगढ़) मैट्रो भाग, जो कश्मीरी गेट-एसकॉर्ट मुजेसर से जुड़ा हुआ है, का उद्घाटन करेंगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री उसी दिन सुल्तानपुर में आयोजित होने वाली सभा से ही पलवल जिला के गांव दुधौला में बनने वाली श्री विश्वकर्मा कौशल युनिवर्सिटी की आधारशिला भी रखेंगे।
उल्लेखनीय है कि पीएम नरेंद्र मोदी आगामी 19 नवम्बर को लगभग 83 किलोमीटर लंबे केएमपी एक्सप्रेस वे का उदघाटन करेंगे और सुल्तानपुर में आयोजित एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे। उम्मीद है कि इस अवसर पर राज्य को और भी कई बड़ी योजनाओं की सौगात देंगे। इस सम्बन्ध में एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि एसकॉर्ट मुजेसर- राजा नाहर सिंह मैट्रो भाग 3.2 किलोमीटर लम्बा है, जो मैट्रो की वायलट लाइन से जुड़ा हुआ है। इस भाग पर संत सूरदास (सिही) और राजा नाहर सिंह के नाम से 2 स्टेशन होंगे।
उन्होंने बताया कि गुरूग्राम फरीदाबाद और बहादुरगढ़ के बाद मैट्रो से जुडऩे वाला बल्लभगढ़ हरियाणा का चौथा शहर है। उन्होंने बताया कि इस विस्तार के बाद कश्मीरी गेट-राजा नाहर सिंह मैट्रो कॉरीडोर 46.6 किलोमीटर लम्बा होगा। वर्तमान में, हरियाणा में 25.8 किलोमीटर मेट्रो लाइनें संचालित हैं और इस भाग के शुरू होने के बाद यह लम्बाई 29 किलोमीटर हो जाएगी। इस सैक्शन पर भारत में निर्मित मैट्रो चलेंगी।
प्रवक्ता ने बताया कि इस लाइन को बनाने का कार्य फरवरी 2015 में शुरू किया गया था। उन्होंने बताया कि एसकॉर्ट मुजेसर-राजा नाहर सिंह (बल्लभगढ़) मैट्रो भाग कनेक्टीविटी के लिहाज से अत्यंत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बल्लभगढ़ शहर के साथ-साथ फरीदाबाद, दक्षिणी पूर्वी दिल्ली और केन्द्रीय दिल्ली के क्षेत्रों से जुड़ा है। उन्होंने बताया कि बहुतायत संख्या में प्रतिदिन अपने कार्यों से बल्लभगढ़ और दिल्ली के बीच सफर करते हैं और यह कॉरीडोर ऐसे लोगों को काफी सहायता करेगा।
उन्होंने बताया कि बल्लभगढ़ हरियाणा का एक बढ़ता हुआ शहर है, जिसकी संख्या लगभग 2.14 लाख है। उन्होंने बताया कि राजा नाहर सिंह (बल्लभगढ़) मैट्रो स्टेशन बल्लभगढ़ रेलवे स्टेशन और अंतर्राज्यीय बस टर्मिनल, बल्लभगढ़ के साथ जुड़ेगा। यह मैट्रो स्टेशन 5 मंजिला होगा, जिसमें 2 कमर्शियल फ्लोर होंगे। इस स्टेशन पर राष्टï्रीय राजमार्ग संख्या 2 के साथ लगते स्थान पर पार्किंग की सुविधा होगी तथा इसे फुट ओवर ब्रिज के साथ जोड़ा जाएगा। इसी प्रकार, संत सूरदास (सिही) स्टेशन एनसीबी के पास स्थापित किया गया है। इन दोनों ही स्टेशनों पर पहुंच के लिए लिफ्टों और एस्केलेटर की सुविधाएं भी होंगी।

इसके अलावा प्रधानमंत्री 19 नवंबर को ही पलवल जिला के गांव दुधौला में बनने वाली श्री विश्वकर्मा कौशल युनिवर्सिटी की आधारशिला भी गुरूग्राम जिला के गांव सुल्तानपुर से रखेंगे। इस शिलान्यास कार्यक्रम का सीधा प्रसारण पलवल जिला के गांव दुधौला में युनिवर्सिटी स्थल पर दिखाया जाएगा। इस यूनिवर्सिटी की पूरी परियोजना पर लगभग 1000 करोड़ रुपये खर्च होंगे।
श्रमेव जयते की अवधारणा पर आधारित इस कौशल विश्वविद्यालय का नाम पहले हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय रखा गया था जिसे बदलकर अब श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय कर दिया गया है। विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू के अनुसार यह विश्वविद्यालय युवाओं को हुनरमंद बनाकर उन्हें स्वरोजगार के लिए प्रेरित करेगा जो गरीबी उन्मूलन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने बताया कि गांव दुधौला में यह कैंपस 82.7 एकड़ भूमि में विकसित किया जाएगा। इस विश्वविद्यालय की कैंपस बिल्डिंग के निर्माण के लिए इस वर्ष 389.24 करोड़ रुपये के टैंडर भी किए जा चुके है। इस विश्वविद्यालय का निर्माण तीन चरणों मे करवाया जाएगा। पहला चरण वर्ष-2020 तक पूरा किए जाने की योजना है।
श्री नेहरू के अनुसार यहां 1000 युवाओं को जीएसटी का प्रशिक्षण देने की भी योजना है। अब तक विश्वविद्यालय में 139 युवाओं को पॉयलेट प्रौजेक्ट के तहत हिसार, गुरूग्राम, रोहतक , करनाल तथा सिरसा में टैऊनिंग दी जा चुकी है। इसके अलावा, विश्वविद्यालय द्वारा 68 छात्रों को उद्यमिता की ट्रैनिंग दी गई है जबकि 30 छात्रों को जर्मन भाषा की टैऊनिंग दी गई है। विश्वविद्यालय द्वारा 21 उद्योगों के साथ विभिन्न कोर्सिंज के प्रशिक्षण के लिए एमओयू पर भी हस्ताक्षर किए गए हैं। गुरूग्राम जिला में युवाओं को साइबर सिक्योरिटी के साथ नेटवर्क सिक्योरिटी तथा एप्लीकेशन सिक्योरिटी की ट्रैनिंग दी गई है। समय की मांग के अनुरूप कम्युनिकेशन एंड लाइफ स्किल में वर्ष-2018 में अब तक गुरूग्राम, फरीदाबाद, धारूहेड़ा, बल्लभगढ़ व पलवल जिलों के 1072 युवाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है। सक्षम सर्टिफिकेशन प्रोग्राम के तहत अब तक 32 युवाओं को कम्युनिकेशन स्किल एंड पर्सनेल्टी डैव्लपमेंट में प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इस विश्वविद्यालय में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवाओं को 10 हजार रुपये तक का स्टाइफंड भी दिया जा रहा है।
इस विश्वविद्यालय के प्रस्तावित परिसर में एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक के अलावा, ऑडिटोरियम एंड कन्वेंशन सैंटर, कैफेटेरिया, सैंटर्स ऑफ एक्सीलेंस, टीचिंग एंड नॉन टीचिंग रैजिडेंशियल एरिया, लडक़ों व लड़कियों के अलग-2 हॉस्टल, शॉपिंग सैंटर, हैल्थ सैंटर, कम्युनिटी सैंटर, स्टेडियम, जिमनेजियम, स्वीमिंग पूल, स्पोट्र्स एंड रीक्रिएशनल फैसिलिटी, फीडर स्कूल एंड कॉमन फैसिलिटी आदि बनाए जाने की योजना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: