इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी और नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी ने किया समझौता

Font Size

– शॉर्ट टर्म व मिड-टर्म कोर्स शुरू करने में इंडस्ट्री-एकेडमिया पार्टनरशिप को बढ़ावा देने का है लक्ष्य 

-आईसीएटी की कार्यवाहक निदेशक पामेला टिक्कू व नार्थ कैप यूनिवर्सिटी गुरुग्राम की कुलपति प्रो. नुपुर प्रकाश ने हस्ताक्षर किए

सुभाष चौधरी 

गुरुग्राम , 29 अगस्त : केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्रालय के अधीन प्रमुख संस्था इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (आईसीएटी) ने सोमवार को दी नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी (एनसीयू), गुरुग्राम के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया. दोनों प्रमुख संस्थानों ने यह समझौता संयुक्त शॉर्ट टर्म और मिड-टर्म कोर्स शुरू करने में इंडस्ट्री-एकेडमिया पार्टनरशिप को बढ़ाने देने के लिये किया है. इसका आशय उद्योग की आवश्यकताओं के अनुसार ई वी  (इलेक्ट्रिकल वाहन )और संबंधित उभरते प्रौद्योगिकी क्षेत्र में आधुनिक अनुसंधान को बढ़ावा देना है.

इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी और नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी ने किया समझौता 2एमओयू पर दोनों संगठनों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में आईसीएटी की कार्यवाहक निदेशक पामेला टिक्कू और दी नार्थ कैप यूनिवर्सिटी (NCU) गुरुग्राम  की कुलपति प्रो. नुपुर प्रकाश ने हस्ताक्षर किए।  इस ख़ास मौके पर श्रीमती टिक्कू ने कहा कि हम इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के उभरते क्षेत्र में इंजीनियरिंग संस्थानों के सहयोग से औद्योगिक दुनिया के लिए आवश्यक कौशल विकास हेतु एक दीर्घकालिक संबंध की आशा करते हैं. उन्होंने बल देते हुए कहा कि (ICAT) आईसीएटी संसाधनों के कौशल उन्नयन की दृष्टि से काफी काम कर रहा है जिसे भविष्य में और आधुनिक रिसर्च ओरिएंटेड स्वरूप दिया जाएगा।

इस अवसर पर  दी नार्थ कैप यूनिवर्सिटी (NCU) गुरुग्राम की कुलपति प्रो. नुपुर प्रकाश ने कहा कि ऑटोमोटिव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आईसीएटी की विशेषज्ञता के साथ-साथ एनसीयू की बेहतर पाठ्य सामग्री को विकसित करने की दक्षता से टेक्नोलॉजी के क्षेत्र के स्टूडेंट्स  के लिए लचीला और औद्योगिक आवश्यकता के अननुरूप पाठ्यक्रम पैकेज तैयार करने में मदद मिलेगी. दोनों संस्थानों के अनुभव व तकनीक का सम्मिश्रण भारत में मोटर वाहन के क्षेत्र में उपलब्ध कई क्षेत्रों में स्टूडेंट्स को सक्षम बनाएगा। ।इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी और नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी ने किया समझौता 3

केंद्र सरकार की प्रमुख संस्था है इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (ICAT):

उल्लेखनीय है कि 1996 से मानेसर में स्थित इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (आईसीएटी), भारी उद्योग मंत्रालय, ऑटोमोबाइल और उनके महत्वपूर्ण सुरक्षा घटकों के परीक्षण और प्रमाणन के लिए केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH के एनएटीआरआईपी (NAB) इम्प्लीमेंटेशन सोसाइटी (एनएटीआईएस) का एक प्रभाग है. यह केंद्रीय मोटर वाहन नियमों (सीएमवीआर) के तहत स्थापित राष्ट्रीय स्तर पर स्वतंत्र (टेस्टिंग )परीक्षण एजेंसियों में से एक है।

इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रतिष्ठित नाम है दी नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी (NCU)

नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी (NCU) की स्थापना 1996 में गुरुग्राम में हुई थी। एनसीयू राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (NAAC) ‘A’ मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) के तहत इंजीनियरिंग श्रेणी में विश्वविद्यालय को शीर्ष 100 में स्थान दिया गया है। संस्थान को इनोवेशन अचीवमेंट 2021 (ARIIA) में संस्थानों की अटल रैंकिंग में भारत में शीर्ष 30 विश्वविद्यालयों और डीम्ड विश्वविद्यालयों की श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले विश्वविद्यालय के रूप में भी पुरस्कृत किया गया है।

विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग, प्रबंधन, अनुप्रयुक्त विज्ञान और कानून जैसे विषयों में विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर कार्यक्रम प्रदान करता है। एनसीयू को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) द्वारा मान्यता प्राप्त है। विश्वविद्यालय भारतीय विश्वविद्यालयों के संघ (एआईयू) का सदस्य है. यह राष्ट्रमंडल विश्वविद्यालयों के संघ (एसीयू), यूके का सदस्य है। अमेरिकन सोसाइटी फॉर क्वालिटी (आई) प्राइवेट लिमिटेड के सदस्य होने के अलावा, एनसीयू को अंतरराष्ट्रीय कॉलेजों (एएसआईसी), यूके के लिए प्रत्यायन सेवाओं द्वारा ‘प्रीमियर’ विश्वविद्यालयों की श्रेणी में ‘प्रशंसनीय’ ग्रेड के साथ मान्यता प्राप्त है।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: