एसवीएसयू को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स द्वारा प्रतिबद्धता प्रमाण पत्र से किया गया सम्मानित  

44 / 100
Font Size

गुरुग्राम : श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स (लंदन) द्वारा प्रतिबद्धता प्रमाण पत्र से सम्मानित किया गया है| यह प्रमाण पत्र विश्वविद्यालय द्वारा कोविड-19 के दौरान किये गए बेहतर सेवा कार्यों के चलते मिला है| वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स विश्व स्तर पर सुरक्षा के लिए व्यक्तियों को प्रेरित करता है एवं बेहतर कार्य करने वाले संस्थानों को सम्मानित करने का कार्य करता है। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स अंतरराष्ट्रीय प्रमाणन में अग्रणी संगठनों में से एक है। जिसका प्राथमिक उद्देश्य एवं लक्ष्य विश्व स्तर की गतिविधियों को रिकॉर्ड करना, सम्मान करना, सूचीबद्ध करना, सराहना करना, प्रमाणित करना है|

एसवीएसयु कोविड महामारी के प्रारंभिक समय से ही माननीय कुलपति श्री राज नेहरू के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन के साथ सेवा कार्य कर रहा है ताकि जल्दी से जल्दी इस महामारी को खत्म किया जा सके| इस ख़ुशी के अवसर पर कुलपति श्री राज नेहरू ने विश्वविद्यालय के सभी स्टाफ सदस्यों द्वारा कोविड के दौरान किये गए कार्यों की सराहना की| उन्होंने कहा की आप सबके सहयोग से ही वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स (लंदन) द्वारा विश्वविद्यालय को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया है|

कोविड-19 के दौरान जरूरत के समय मानवता के लिए प्रत्येक एसवीएसयू सदस्य ने प्रतिबद्धता, समर्पण, साहस और सेवा के साथ समाजहित एवं सेवा के लिए कार्य किया| श्री राज नेहरू ने कोविड-19 के दौरा महत्वपूर्ण सहयोग देने वाले संस्थान जिनमें अकादमिक पार्टनर आईआईएलएम यूनिवर्सिटी, गुरुग्राम यूनिवर्सिटी, हॉस्पिटल पार्टनर समां हॉस्पिटल, पारस हेल्थ केयर, इंडस्ट्री पार्टनर मिण्डा, दी ललित, रूप ऑटो, जीएमडीए गुरूग्राम, कन्सेन्ट्रिक्स, जय, एलोफिक, बीकानेरवाला,  एवं एनजीओ पार्टनर जियो गीता एवं चिरंजीव का भी धन्यवाद किया|

उन्होंने कहा की मुझे पूर्ण विश्वास है कि हम सामाजिक, व्यक्तिगत, संगठनात्मक और राष्ट्रीय संदर्भ में जहां भी जरूरत होगी साथ देंगे| विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. आर.एस. राठौर ने कहा की कुलपति महोदय के मार्गदर्शन एवं निस्वार्थ सेवा भाव के चलते ही यह उपलब्धि मिली है| मुझे यह सूचित करते हुए प्रसन्नता हो रही है कि कुलपति महोदय के नेतृत्व में, हम सबके द्वारा समाज कार्यों में की गई कड़ी मेहनत को वर्ल्ड बुक्स ऑफ रिकॉर्ड्स (लंदन) द्वारा मान्यता प्राप्त हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page