बैसाखी का पर्व 13 को मनाया जाएगा

63 / 100
Font Size

गुरुग्राम, 12 अप्रैल : रवि की फसल की कटाई शुरु होने की सफलता के रुप में मनाया जाने वाला बैसाखी का पर्व 13 अप्रैल को धूमधाम से मनाया जाएगा। इस पर्व को किसान, मजदूर व अन्य समुदाय के लोग भी बड़े उत्साह के साथ मनाते रहे हैं। इस पर्व का धार्मिक महत्व भी बहुत अधिक है। हालांकि कोरोना महामारी बैसाखी के पर्व को फीका करती दिखाई दे रही है। बैसाखी का अर्थ बैसाख मास की सक्रांति है। यह बैसाख और सौर मास का प्रथम दिन होता है। हरिद्वार व ऋषिकेश की पवित्र नदियों में स्नान करे करने का विशेष महत्व होता है।

यह पर्व हिंदूओ, बौद्ध व सिखों के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। पंजाब का परंपरागत नृत्य भांगड़ा व गिद्धा भी किया जाता है। श्रद्धालु गुरुद्वारों में अरदास के लिए एकत्रित होते हैं। दूध और जल से प्रतीकात्मक स्नान कराने के बाद गुरु ग्रंथ साहिब को तख्त पर बैठाया जाता है। गुरु के लंगर का आयोजन भी होता है। बैसाखी के दिन श्रद्धालु कार सेवा करते दिखाई देते हैं। गुरुद्वारों में गुरु गोविंद सिंह व पंच-प्यारों के सम्मान में शबद कीर्तन का आयोजन होता रहता है। बैसाखी के पर्व की शुरुआत पंजाब प्रदेश से हुई थी। बैसाखी गुरु अमरदास द्वारा चुने गए 3 हिंदू त्यौहारों में से एक है। जिन्हें सिख समुदाय द्वारा मनाया जाता है।

खालसा पंथ की स्थापना 1699 में वैशाखी के दिन, दसवें गुरु, श्री गुरु गोबिंद सिंह द्वारा आनंदपुर साहिब में की गई थी। उन्होंने घोषणा की कि सभी मनुष्य समान हैं। उन्होंने उच्च और निम्न जाति के समुदायों के बीच के अंतर को समाप्त कर दिया। बाद में सिख धर्म की पवित्र पुस्तक , श्री गुरु ग्रंथ साहिब को उनके शाश्वत मार्गदर्शक के रूप मे अंतरिम गुरू के रूप में घोषित किया गया .

सिख नदी या सरोवर में स्नान करके और गुरुद्वारों में जाकर बैसाखी मनाते हैं, जहाँ वे दिन में आयोजित पाठ में भाग लेते हैं और गुरूबानी सुनते है। बैसाखी सभी को उत्सव के मूड में ले जाता है, और लोग अपने दिल को बाहर निकालने के लिए नृत्य करना पसंद करते हैं। तलवंडी साबो में विशेष उत्सव होते हैं, जहां गुरु गोविंद सिंह ने पवित्र ग्रंथ साहिब, आनंदपुर साहिब में गुरुद्वारा, जहां खालसा का जन्म हुआ था, और अमृतसर में स्वर्ण मंदिर का पुनर्निर्माण किया। किसान ईश्वर को भरपूर फसल के लिए धन्यवाद देते हैं.

बैसाखी के जुलूस के दौरान, बच्चे और युवा ढोल-ताशे और बैंड के साथ मार्शल आर्ट में अपने कौशल का प्रदर्शन करते हैं, और पुरुष तलवारें झूलते हुए इस आयोजन को और रंगीन बनाते हैं। सभी के लिए, यह कहना सुरक्षित है कि प्रत्येक वर्ष, बैसाखी का त्योहार लोगों के जीवन में एक नया अध्याय पेश करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page