यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक का ऐलान : अपने साथियों की शहादत को व्यर्थ नहीं जाने देंगे

Font Size

कानपुर का बिकरू कांड : गैंगस्टर विकास दुबे का एक साथी मुठभेड़ में ढेर, कई गिरफ्तार

कानपुर-लखनऊ, 8 जुलाई । कानपुर के बिकरु कांड मामले में बुधवार को पुलिस ने एक के बाद एक कई सफलताएं हासिल कीं। मामले के मुख्य आरोपी विकास दुबे का बॉडीगार्ड कहे जाने वाले एक बदमाश को हमीरपुर में मुठभेड़ में पुलिस ने जहां मार गिराया वहीं छह अन्य बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया गया। अमर, विकास दुबे गैंग का तीसरा सदस्य है जो मुठभेड़ में मारा गया है। इससे पहले उसके साथी प्रेम प्रकाश पांडे और अतुल दुबे पिछले शुक्रवार को वारदात के बाद मुठभेड़ में मारे गए थे। प्रेसवार्ता में यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा कि हम लोग अपने साथियों की शहादत को व्यर्थ नहीं जाने देंगे और जो भी कार्रवाई होगी वह विधिक होगी और ऐसी होगी कि दोषियों को हमेशा पछतावा होगा।

 

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने यहां संवाददाताओं को बताया कि बुधवार सुबह हमीरपुर के मौदहा में दुबे का करीबी सहयोगी अमर दुबे एसटीएफ और स्थानीय पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया। उन्होंने बताया कि अमर पर 50000 रुपये का इनाम घोषित था और उसके पास से एक अवैध सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल तथा कारतूस बरामद हुआ है।

 

हमीरपुर के पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार के मुताबिक मुखबिर की सूचना पर एसटीएफ और स्थानीय पुलिस ने अमर को घेर लिया था। इस दौरान उसने पुलिस पर गोली बारी कर दी जिसमें मौदहा के इंस्पेक्टर और एसटीएफ का एक कॉन्स्टेबल घायल हो गए। जवाबी कार्रवाई में अमर को गोलियां लगी और अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

 

उन्होंने बताया कि अमर, विकास दुबे गैंग का तीसरा सदस्य है जो मुठभेड़ में मारा गया है। इससे पहले उसके साथी प्रेम प्रकाश पांडे और अतुल दुबे पिछले शुक्रवार को वारदात के बाद मुठभेड़ में मारे गए थे।

 

अपर पुलिस महानिदेशक कुमार ने यह भी बताया कि हरियाणा पुलिस ने फरीदाबाद में मुठभेड़ के दौरान गैंगस्टर विकास दुबे के साथी कार्तिकेय उर्फ प्रभात, अंकुर और उसके पिता श्रवण को गिरफ्तार किया है।

 

अधिकारी ने बताया कि उनके पास से गत दो-तीन जुलाई की रात कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद उन से लूटी गई पिस्टल मिली है। इसके अलावा दो अन्य पिस्टल तथा 44 कारतूस भी बरामद किए गए हैं।

 

उन्होंने बताया कि इसी क्रम में मंगलवार रात 50000 रुपये का एक अन्य नामजद अपराधी श्यामू बाजपेई भी गिरफ्तार किया गया है। साथ ही मामले के एक अन्य आरोपी जहान यादव तथा उसके साथी संजीव दुबे को कानपुर नगर की पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

 

कुमार ने बताया कि इसके अलावा मंगलवार रात गौतम बुद्ध नगर में एक्सप्रेस वे तथा बिसरख थाना क्षेत्रों में भी पुलिस ने कार्यवाही की है जहां कई बदमाश घायल और गिरफ्तार किए गए हैं। बुलंदशहर के स्याना थाना क्षेत्र में भी कई इनामी बदमाश घायल और गिरफ्तार हुए हैं।उन्होंने कहा कि कानपुर की घटना में जो लोग भी शामिल हैं पुलिस उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करेगी।

 

अपर महानिदेशक ने कहा कि हम लोग अपने साथियों की शहादत को व्यर्थ नहीं जाने देंगे और जो भी कार्रवाई होगी वह विधिक होगी और ऐसी होगी कि दोषियों को हमेशा पछतावा होगा।

 

कुमार ने बताया कि बिकरू कांड के दौरान पुलिस से लूटे गए पांच में से तीन हथियारों को बरामद कर लिया गया है। बाकी एक एके-47 और एक इंसास राइफल की बरामदगी के प्रयास जारी हैं इस बीच, एसटीएफ के पुलिस महानिरीक्षक अमिताभ यश ने बताया कि बिकरू हत्याकांड मामले में नामजद सभी आरोपीों की तलाश की जा रही है। जब भी हमें उनके बारे में कोई सूचना मिलती है हमने स्थानीय पुलिस की मदद लेते हैं।

 

विकास को गिरफ्तार करने में हो रही देर के बारे में पूछे जाने पर पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि वह बहुत शातिर अपराधी है और अक्सर छुपा रहता है लिहाजा उसे पकड़ने में समय लग रहा है लेकिन हम उसे निश्चित रूप से पकड़ेंगे। हमें कामयाबी मिलनी शुरू हो चुकी है।

 

विकास दुबे गत दो-तीन जुलाई की मध्यरात्रि को कानपुर के बिकरू गांव में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला कर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या किए जाने का मुख्य आरोपी है। उस पर ढाई लाख रुपए का इनाम घोषित है। वह अभी पुलिस की पकड़ से बाहर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: