कांग्रेस के लिए किसान वोट बैंक, हमारे लिए अन्नदाता : पीएम मोदी

Font Size

पलामू । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने एक दिवसीय दौरे पर शनिवार को पलामू पहुंचे। यहां पीएम मोदी ने 25 हजार 202 करोड़ की लागत से बनने वाली लम्बित उत्तर कोयल मंडल सिंचाई परियोजना सहित छह परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने झारखंड के 25 हजार लाभुकों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गृह प्रवेश भी कराया। पांच लोगों को चाबी भी सौंपी।

प्रधानमंत्री सामूहिक ई-गृहप्रवेश के साक्षी बने, झारखंड के पलामू में विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी . प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज झारखंड के पलामू का दौरा किया। वह प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 25,000 लाभार्थियों के ई-गृहप्रवेश के साक्षी भी बने।

उन्होंने उत्तरी कोयल (मंडल बांध) परियोजना का पुनरोद्धार, कन्हर सोन पाइपलाईन सिंचाई योजना, विभिन्न सिंचाई प्रणालियों और इनसे जुड़ी आपूर्ति लाइनों के सुदृढ़ीकरण के लिए आधारशिला रखी। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये परियोजनाएँ कुल 3500 करोड़ रुपये की हैं।

इस अवसर पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि ये परियोजनाएँ सिंचाई की लागत में कमी करके किसानों की आय बढ़ाने की दिशा में सरकार के प्रयास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तरी कोयल (मंडल बांध) परियोजना लगभग 47 वर्षों से अधूरी है। उन्होंने कहा कि यह इस क्षेत्र के किसानों के प्रति एक तरह की आपराधिक लापरवाही है। प्रधानमंत्री ने किसानों के समक्ष आने वाली समस्याओं का समाधान करने के लिए एक ईमानदार प्रयास करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होंने कहा कि दशकों से रुकी हुई 99 बड़ी सिंचाई परियोजनाओं को लगभग 90,000 करोड़ रुपये की लागत से फिर से शीघ्रता के साथ पूर्ण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार किसानों को “अन्नदाता” मानने की व्यवहारिक दृष्टि के साथ उनके विकास की दिशा में दृढ़ता से कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार कृषि और किसानों के लिए एक नई सोच के साथ कार्य करते हुए कृषि से जुड़ी समस्याओं को मौलिक रूप से हल करने की कोशिश भी कर रही है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के अंर्तगत दिए जा रहे 25,000 आवासों का उल्लेख करते हुए कहा कि इसका उद्देश्य 2022 तक सभी के लिए आवास प्रदान करना है। प्रधानमंत्री इस योजना की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि यह योजना पूर्व में शुरू की गई अन्य इसी तरह की योजनाओं से कैसे अलग है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अब लाभार्थियों का चयन अधिक पारदर्शी तरीके से किया जाता है और लाभार्थियों के चयन के बाद ऑनलाइन पंजीकरण, लाभार्थी के बैंक खाते का सत्यापन करके प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण किया जाता है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्मित घरों की गुणवत्ता की निगरानी के लिए एक नई प्रणाली विकसित की गई है। इसमें फोटोग्राफी और भू-टैगिंग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में प्रदान किये जा रहे आवासों में बिजली, खाना पकाने की गैस का कनेक्शन और शौचालय की सुविधा भी उपलब्ध हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि इन आवासों का वैकल्पिक डिजाइन भी उपलब्ध हैं और आवासों के क्षेत्र को भी बढ़ाया गया है। घर के निर्माण में स्थानीय सामग्रियों का उपयोग करने का भी प्रयास किया जाता है। उन्होंने कहा कि निर्माण की गति में तेजी लाते हुए लगभग 1.25 करोड़ घर पांच वर्ष से भी कम समय में बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि एक घर के निर्माण के औसत समय में कमी आयी है और यह अब आवास का निर्माण 18 महीने की जगह 12 महीने में हो जाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके लिए अब लाभार्थी के खाते में चार किस्तों के रूप में 1.25 लाख रुपये आसानी से पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व यह धनराशि केवल 70,000 रुपये हुआ करती थी। प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीबों के समग्र सशक्तिकरण की दिशा में आवास एक साधन बन रहा है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार, सरकार अब मध्यम वर्ग की आवास जरूरतों के बारे में भी विचार कर रही है और उन्हें वित्तीय सहायता के साथ-साथ ब्याज पर भी राहत दी जा रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन महीने पहले झारखंड से शुरू की गई प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आज लाखों गरीबों को चिकित्सा सहायता प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि पहले 100 दिनों में छह लाख से अधिक लोग इससे लाभान्वित हुए और आज लगभग 10,000 व्यक्ति दैनिक से इससे लाभान्वित हो रहे हैं।

सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि आजादी के बाद इतने दिनों तक देश कैसे चला है इसके लिए यह (उत्तर कोयल मंडल सिंचाई योजना) परियोजना केस स्टडी है। उन्होंने कांग्रेस पर किसानों को सिर्फ वोट बैंक बनाकर रखने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारी सरकार किसानों को अन्नदाता मानती है।

अपने संबोधन के दौरान उन्होंने पिछली सरकारों पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि मंडल डैम पिछली सरकारों की विफलता की गवाही है। उन्होंने कहा कि 47 वर्षों से यह योजना लंबित पड़ा हुआ है। बीते 25 वर्षों से तो यह ठप ही पड़ा था। उन्होंने कहा कि जब बिहार-झारखंड एक था, तब यहां की सरकारों को किसानों को थोड़ी भी फिक्र होती तो आज ऐसा हाल नहीं होता।

बिना नाम लिए प्रधानमंत्री ने राहुल गांधी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों तो यह भी नहीं पता होगा कि ‘उत्तर कोयल परियोजना’ पंछी का नाम है या यह सिंचाई परियोजना है। उन्होंने कहा कि हम सिंचाई परियोजनाओं पर लगभग एक लाख करोड़ रुपए खर्च कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हमने किसानों को गुमराह करने का काम नहीं किया, इसलिए हमारी सरकार ने सिंचाई परियोजना पर इतने पैसे खर्च किए। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने चुनाव जीतने के खेल के लिए किसानों को कर्जदार बनाकर रखा है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *