तो क्या माधुरी दीक्षित भाजपा में शामिल होगी ?

Font Size

लोकसभा चुनाव में भाजपा कर रही है अभिनेत्री माधुरी दीक्षित को पुणे सीट से लड़ाने पर विचार

मुंबई । भाजपा अभिनेत्री माधुरी दीक्षित नेने को 2019 के लोकसभा चुनाव में पुणे सीट से मैदान में उतारने पर विचार कर रही है। यह जानकारी पार्टी सूत्रों ने दी। इस राजनीतिक चाल से भाजपा अगले लोकसाभ चुनाव में कांग्रेस को मात देने की जुगत में अभी से लग गयी है। संकेत है कि भाजपा में बॉलीवुड के कई और बड़े चेहरे शामिल हो सकते हैं। माना जा रहा है कि इससे पार्टी शत्रुघन सिन्हा जैसे पुराने अभिनेताओं को अप्रासंगिक बनाने में सफल होगी जबकि नये चेहरे मैदान में उतार कर विपक्ष की बोलती बंद करने में सफल होगी।

इसके साथ ही इस बात को हवा मिल रही है कि भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव में बड़े पैमाने पर वर्तमान सांसदों के टिकट काटेगी। पार्टी के समक्ष अपने दम पर बहुमत प्राप्त करने की चुनौती है। एक तरफ कांग्रेस के नेतृत्व में महागठबंधन के सामने आने की आशंका जबकि दूसरी तरफ सत्ता विरोधी हवा को न्यूनतम बनाने की आवश्यकता , पार्टी नेतृत्व ने अभी से ब्यूह रचना के लिए नए सिपाहियों की खोज शुरू कर दी है।

उल्लेखनीय है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस साल जून में अदाकारा माधुरी दीक्षित से मुंबई स्थित उनके आवास पर मुलाकात की थी। शाह उस समय पार्टी के ‘संपर्क फॉर समर्थन’ अभियान के तहत मुंबई पहुंचे थे।

शाह ने इस दौरान अभिनेत्री को नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों से अवगत कराया था जो अब राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण घटना में तब्दील होने की संभावना प्रबल है।

राज्य के एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने बृहस्पतिवार को बताया कि माधुरी का नाम पुणे लोकसभा सीट के लिए चुना गया है।
उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी 2019 के आम चुनाव में माधुरी दीक्षित को उम्मीदवार बनाने पर गंभीरता से विचार कर रही है। हमारा मानना है कि पुणे लोकसभा सीट उनके लिए बेहतर होगी।’’

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘पार्टी कई लोकसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम तय करने की प्रक्रिया में है और दीक्षित का नाम पुणे लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए चुना गया है…इसके लिए उनके नाम पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।’’

51 वर्षीय अदाकारा माधुरी ने ‘तेजाब’, ‘हम आपके हैं कौन’, ‘दिल तो पागल है’, ‘साजन’ और ‘देवदास’ सहित अनेक बॉलीवुड फिल्मों में काम किया है।

वर्ष 2014 में भाजपा ने पुणे लोकसभा सीट कांग्रेस से छीन ली थी और पार्टी उम्मीदवार अनिल शिरोले ने तीन लाख से अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी।
माधुरी को चुनाव लड़ाने की योजना के बारे में भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘‘इस तरह के तरीके नरेंद्र मोदी ने गुजरात में तब अपनाए थे जब वह पहली बार मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने स्थानीय निकाय चुनावों में सभी उम्मीदवारों को बदल दिया और पार्टी को उस फैसले का लाभ मिला।’’

उन्होंने कहा, ‘‘नए चेहरे लाए जाने से किसी के पास आलोचना के लिए कुछ नहीं था। इससे विपक्ष आश्चर्यचकित रह गया और भाजपा ने अधिक से अधिक सीट जीतकर सत्ता कायम रखी।’’

नेता के अनुसार, इसी तरह का सफल प्रयोग 2017 में दिल्ली के निकाय चुनावों में भी किया गया जब सभी मौजूदा पार्षदों को टिकट देने से इनकार कर दिया गया। भाजपा ने जीत हासिल की और नियंत्रण बरकरार रखा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *