हरियाणा में शहीद के परिजनों को ग्रूप-बी की नौकरियां भी देने का निर्णय : मनोहर लाल

Font Size

चंडीगढ़, 21 अक्तूबर :  हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार ने शहीदों व उनके परिवारों के कल्याण के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए है। सरकार ने अपनी पॉलिसी में बदलाव करके अब शहीद के परिजनों को ग्रूप-बी की नौकरियां भी देने का निर्णय लिया है, जिसके तहत शहीद मेजर संजीव लाठर की पत्नी शालिनी लाठर को ग्रूप-बी की नौकरी दी जाएगी।
मुख्यमंत्री आज जींद जिला के बुढाखेड़ा लाठर गांव में शहीद मेजर संजीव लाठर की प्रतिमा का अनावरण करने उपरांत आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि शहीद मेजर संजीव लाठर जैसे सैनिक युवाओं के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बनते है और इनकी याद हमारे दिलों में बनी रहे, इसके लिए आज यहां इनकी प्रतिमा का अनावरण किया गया है। उन्होंने कहा कि पहले शहीद के परिजनों को केवल ग्रूप सी व डी की नौकरियां ही दी जाती थी, लेकिन हमने पॉलिसी में बदलाव कर ग्रूप बी की नौकरियों को भी शहीद के परिवारों के लिए शामिल किया। उन्होंने कहा कि शहीद मेजर की पत्नी शालिनी लाठर को ग्रूप बी की नौकरी दी जाएगी। इसके अलावा बुढाखेड़ा गांव में लगभग 25 एकड़ भूमि पर शहीद मेजर संजीव लाठर की याद में लॉ कॉलेज अथवा अन्य शिक्षण संस्थान स्थापित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हरियाणा देश की कुल आबादी का केवल 2 प्रतिशत और क्षेत्रफल के अुनसार 1.3 प्रतिशत है, लेकिन हरियाणा का देश की सेना में योगदान 10 प्रतिशत है, जो हरियाणा के लिए एक गौरव की बात है। मुख्यमंत्री ने बुढाखेड़ा लाठर गांव की गलियां, नालियां व अन्य विकास कार्यो के लिए एक करोड़ रूपए की राशि देने की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री ने जुलाना हलके के कई गांवों के खेतों में जल भराव की समस्या पर संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को 31 अक्तूबर तक बरसाती पानी की निकासी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि पानी की निकासी के लिए शामलों कलां पम्प हाऊस की क्षमता जो अब 120 क्यूसिक है उसे बढ़ाकर 240 क्यूसिक और करेला पम्प हाऊस की क्षमता 70 क्यूसिक से बढ़ाकर एक सौ क्यूसिक की जाएगी, ताकि रबी की फसलों की बीजाई समय पर बिना किसी परेशानी के हो सके।

इस मौके पर शालिनी लाठर द्वारा शहीद मेजर संजीव लाठर के नाम से शुरू की गई छात्रवृति योजना के तहत दसवीं और बाहरवीं कक्षा में प्रथम और द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली छात्राओं को नकद पुरस्कार दिए गए। दसवीं कक्षा में पहला स्थान प्राप्त करने वाली तनु को दस हजार रूपए, दूसरा स्थान प्राप्त करने वाली तनु को पांच हजार रूपए का नकद पुरस्कार दिया गया। इसी प्रकार बाहरवीं कक्षा में आर्टस पहला स्थान प्राप्त करने वाली रितु को दस हजार रूपए, दूसरा स्थान प्राप्त करने वाली स्वीटी को पांच हजार रूपए तथा कॉमर्स में पहला स्थान प्राप्त करने वाली सुषमा को दस हजार रूपए और दूसरा स्थान प्राप्त करने वाली दीक्षा को पांच हजार रूपए का नकद पुरस्कार दिया गया।
केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौ० बीरेन्द्र सिंह ने कहा कि हरियाणा का किसान लोगों का पेट भरने, हरियाणा का जवान देश की सुरक्षा करने जैसे कामों के लिए पूरे देश में जाना जाता है। यहां के खिलाडिय़ों ने देश के गौरव को बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि शहीद मेजर संजीव लाठर का हैलिकॉप्टर हादसे में देहावसान हो गया, उसे सरकार द्वारा शहीद का दर्जा देकर सम्मान दिया गया है। उन्होंने कहा जब देश के करोड़ों लोग सुख चैन की नींद सोते है तो भारतीय जवान सीमाओं पर चौकसी बरतता है।

गौरतलब है कि शहीद मेजर संजीव लाठर की स्मृति में गांव में एक पार्क विकसित किया गया है जिसमें शहीद की प्रतिमा लगाई गई है। इसका प्रबंधन शहीद संजीव लाठर ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। शहीद के पिता महेन्द्र सिंह लाठर इसके अध्यक्ष है। कार्यक्रम में न केवल बुढ़ाखेड़ा लाठर गांव के महिला एवं पुरूषों ने शहीद को याद किया बल्कि नजदीकी गांवों के गणमान्य लोगों ने भी कार्यक्रम मेें पहुंचकर शहीद की शहादत को सलाम किया। यहां शहीद की याद में शहीद की आकर्षक प्रतिमा स्थापित की गई है। मेजर संजीव लाठर 30 नवम्बर 2016 को पश्चिमी बंगाल के सिलीगुड़ी में डयूटी के दौरान हैलिकॉप्टर हादसे में शहीद हो गए थे। गांव के इस लाडले की याद में ग्रामीणों द्वारा एक पार्क विकसित कर उसमें शहीद की प्रतिमा लगाई गई है। शहीद की प्रतिमा अनावरण मौके पर बुढ़ाखेड़ा गांव की सरपंच कविता, वीरेन्द्र आर्य समेत क्षेत्र के अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

इस मौके पर शहीद के पिता महेन्द्र लाठर, माता संतोष देवी, शहीद की पत्नी शालिनी लाठर, शहीद की बहन सुनीता व बबीता भी विशेष रूप से उपस्थित रही। कार्यक्रम में हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, सांसद रमेश कौशिक, सांसद धर्मबीर सिंह, मार्केट कमेटी के चेयरमैन विष्णु शर्मा, यूपी में एमएलसी संजय लाठर, शमशेर खरकड़ा भी उपस्थित रहे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *