कलम से समाज को नई दिशा देते हैं कवि, शायर व साहित्यकार : सुधीर सिंगला

54 / 100
Font Size

-सीसीए स्कूल में मुशायरे में पहुंचे भाजपा विधायक


गुरुग्राम। विधायक सुधीर सिंगला ने कहा कि मुशायरा और कविता पाठ जैसे कार्यक्रम नई ऊर्जा प्रदान करते हैं। कविता, शायर और साहित्यकार अपनी कलम के माध्यम से समाज को नई दिशा देते हैं। कोरोना महामारी काल के कारण तनाव में हुए जनमानस को तनाव से उभारने को ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन जरूरी है। यह बात उन्होंने बीती शाम यहां सेक्टर-4 स्थित सीसीए स्कूल में सुरूचि परिवार की ओर से आयोजित मुशायरा कार्यक्रम में कही।


कार्यक्रम में विधायक सुधीर सिंगला मुख्य अतिथि थे, वहीं अध्यक्षता बीजेपी युवा नेता नवीन गोयल ने की। कार्यक्रम का संचालन संस्था महासचिव मदन साहनी ने किया। वीणा अग्रवाल ने अपने मधुर कंठों से सरस्वती वंदना प्रस्तुत किया। अपने संबोधन में विधायक सुधीर सिंगला ने आगे कहा कि कोरोना महामारी ने जहां हौसले तोडऩे की कोशिश की, वहीं हम सबने मिलकर कोरोना को हराने के लिए एकजुटता दिखाई। उन्होंने कहा कि कवि, साहित्यकार, गजलकार सभी समाज को अपनी कलम व वाणी के माध्यम से एक नई दिशा देते हैं। इनकी कलम से लिखी जाने वाली रचनाओं का देश, समाज पर गहरा असर पड़ता है।

कार्यक्रम अध्यक्ष नवीन गोयल ने शहर में सफाई रखने, वृक्षारोपण, जल संरक्षण व प्लास्टिक का उपयोग न करते हुए सकारात्मक सोच के साथ काम करने का संदेश दिया। भाजपा जिला उपाध्यक्ष अनिल यादव ने दोनों आमंत्रित शायरों को कार्यक्रम के सूरज और चांद की संज्ञा देते हुए अच्छे विचार व अच्छी शायरी से सजाई गई यादगार शाम के लिये सुरुचि परिवार को बधाई दी।

इस मौके पर पार्षद मंगतराम बागड़ी, ललित कटारिया, पारस बख्शी, कर्नल कुंवर प्रताप सिंह, निर्मल यादव, डॉ. आरपी शर्मा सहित अनेक गणमान्य लोग मौजूद रहे। इस अवसर पर कृष्ण गोपाल विद्यार्थी, सुधीर त्रिपुरारि, त्रिलोक कौशिक, हरीन्द्र यादव, मनोज शर्मा, आरएस पसरीचा, मंजू भारती, नरेंद्र खामोश, सुरिन्दर मनचन्दा, सुनील पुजारी, आरएस पसरीचा, शशांक शर्मा, रजनेश त्यागी, मनजीत कौर, अनिल  श्रीवास्तव, आरपी कौशिक सहित कई कवि साहित्यकार व सहित्ययप्रेमी उपस्थित थे। संस्था अध्यक्ष डॉ. धनीराम अग्रवाल ने सभी का धन्यवाद किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page